ढोल-बाजे के साथ बारात लेकर पाकिस्तान रवाना हुआ महेंद्र, कहा- अब तो हर हाल में लाऊंगा अपनी दुल्हन

नई दिल्ली: कहते हैं प्यार अंधा होता है.. इसकी ना कोई उम्र होती है, ना कोई मजहब। यही वजह है कि जो इस चक्कर में पड़ जाता है फिर वो अपने प्यार को पाने के लिए कुछ भी कर गुजरने को तैयार रहता है। वैसे तो आपने प्यार के कई किस्से सुने होंगे, लेकिन राजस्थान के बाड़मेर का रहने वाला महेंद्र इन सबसे अलग है।

पुलवामा हमले के कारण नहीं हो पाई थी महेंद्र की शादी
महेंद्र ने प्यार भी किया तो ऐसे मुल्क की लड़की से, जिसका पूरा देश विरोध कर रहा है। जी हां हम बात पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान की कर रहे हैं। दरअसल, पुलवामा हमले के बाद भारत-पाकिस्तान के बीच तनावपूर्ण माहौल ने महेंद्र की सारी उम्मीदों पर पानी फेर दिया था, लेकिन महेंद्र को अपने प्यार पर पूरा विश्वास था। यही वजह है कि अब वो खुश है और जल्द ही अपनी दुल्हन को घर लाने के लिए निकल पड़ा है।

भारत-पाकिस्तान के बीच स्थिती सुधरने के बाद रवाना हुई बारात
पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आतंकी हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ गया था। इस बीच जवानों की शहादत के माहौल में एक समय ऐसा आया जब एक शख्स को अपनी शादी के लिए इंतजार करना पड़ा। इंतजार के बाद बाड़मेर जिले से बारात पाकिस्तान के उमरकोट के लिए रवाना हो चुकी है।

पहले 8 मार्च को होने वाली थी शादी
दूल्हे महेंद्र सिंह बाड़मेर के खेजाद का पार गांव के रहने वाले हैं और शादी छगन कनवर से होने जा रही है जो पाकिस्तान के सिंध प्रांत में सिनोई गांव की रहने वाली हैं। यह शादी बीते 8 मार्च को होनी थी लेकिन जम्मू कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले और 40 सीआरपीएफ जवानों की शहादत के बाद दोनों देशों के बीच जारी तनाव की वजह से ऐसा नहीं हो सका।

थार एक्सप्रेस के जरिए पाकिस्तान रवाना होने वाले थे महेंद्र
पाकिस्तान में जाकर छगन से शादी करने के लिए महेंद्र थार एक्सप्रेस पर यात्रा करने वाले थे लेकिन तनाव के बाद इस शादी समारोह को रद्द करना पड़ा। दुल्हन भी शादी के लिए तैयार थी और अपने टिकट बुक करवा चुकी थी। महेंद्र सिंह भारत के अटारी और पाकिस्तान के लाहौर के बीच चलने वाली ट्रेन की मदद से पाकिस्तान जाने वाले थे लेकिन तनाव के बीच पाकिस्तान ने यह रेल सेवा रद्द कर दी थी।

महेंद्र ने अपनी शादी के बारे में एएनआई से बात करते हुए कहा, ‘मेरी शादी 8 मार्च के लिए तय की गई थी लेकिन पुलवामा हमले के बाद भारत पाकिस्तान के बीच तनाव की वजह से इसे स्थगित कर दिया गया था। अब जब दोनों देशों के बीच शांति का माहौल है मैं वहां जा रहा हूं और खुश हूं। अब महेंद्र और छगन की शादी 16 अप्रैल को होने जा रही है।