बेटे को जन्म देने के 26 दिन बाद महिला के पेट उठा दर्द, 2 और बच्चों को दिया जन्म
रोचक खबरें, विदेश

बेटे को जन्म देने के 26 दिन बाद महिला के पेट उठा दर्द, 2 और बच्चों को दिया जन्म

ढाका। बांग्लादेश में एक महिला द्वारा तीन बच्चों को जन्म देने का मामला इन दिनों सुर्खियां बटोर रहा है। दरअसल, 20 साल की इस महिला ने एक बच्चे को जन्म देने के 26 दिन बाद ही जुड़वा बच्चों को जन्म दे दिया। 26 दिन पहले मां बनी महिला द्वारा जुड़वा बच्चों के जन्म दिए जाने के बाद डॉक्टर भी हैरान हैं।

बांग्लादेश के अखबारों में इस खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक, सहरशा उपजिला की अरिफा सुल्ताना (20) को 25 फरवरी को प्रेग्नेंसी में कुछ जटिलताओं की वजह से खुलना मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था।

रिपोर्ट के अनुसार, अस्पताल में भर्ती कराने के कुछ ही घंटों बाद अरिफा ने एक बच्चे को जन्म दिया। बेटे को जन्म देने के बाद अरिफा अपने घर लौट गईं, लेकिन डॉक्टरों का ध्यान महिला के दूसरे यूटेरस में मौजूद दूसरे बच्चों पर नहीं गया।

हॉस्पिटल की हेड गायकनोलॉजिस्ट शीला पोद्दार के हवाले से स्थानीय मीडिया ने बताया कि अरिफा को बिल्कुल महसूस नहीं हो रहा था कि उसके गर्भ में अभी भी जुड़वां बच्चे हैं। पहले बच्चे को जन्म देने के 26 दिन बाद 22 मार्च को वह फिर से हॉस्पिटल लौटी।

डॉक्टर पोद्दार के मुताबिक, अल्ट्रासाउंड से हमें पता चला कि अरिफा के दो गर्भाशय हैं और हैरानी की बात यह रही कि उसने जुड़वां बच्चों को जन्म दे दिया। जुड़वा बच्चों का जन्म सी-सेक्शन सर्जरी से हुआ। जुड़वा बच्चे में एक लड़का और एक लड़की है।

डॉक्टरों के मुताबिक, पहला बच्चा एक कोख में पल रहा था, जबकि जुड़वां दूसरी कोख में। उन्होंने बताया कि ऐसे मामले मेडिकल की दुनिया में शायद ही पहली बार आया है। गत मंगलवार को मां और तीनों बच्चों को हॉस्पिटल से डिस्चार्ज कर दिया गया, सभी बच्चे स्वस्थ हैं।

हालांकि, कई डॉक्टरों और विशेषज्ञों ने खुलना मेडिकल कॉलेज पर भी सवाल खड़े कर दिए हैं। उनका कहना है कि डॉक्टरों को अरिफा की दूसरी प्रेग्नेंसी का पहली बार में पता क्यों नहीं चल पाया। उधर, महिला के पति सुमन बिस्वास ने कहा कि यह अल्लाह का चमत्कार है कि सभी बच्चे स्वस्थ हैं, मैं कोशिश करूंगा कि सभी बच्चों को खुश रख सकूं। डॉक्टरों के अनुसार, दुर्लभ मामलों में महिलाओं में दो यूटेरस विकसित हो जाते हैं।

28 March, 2019

About Author

[email protected]