फैज़ अहमद फैज़ की शायरी जो पढ़ कर आप हो जायेंगे कायल
कहानी-कविताएं

फैज़ अहमद फैज़ की शायरी जो पढ़ कर आप हो जायेंगे कायल

क्या आपने कभी हथियार उठाने वाले सैनिक को कलम की कमान सँभालते देखा है ?क्या कभी एक सिपाही को शांति पुरस्कार से सम्मानित होते सुना है ?आप सोंच रहे होंगे की एक सैनिक़ जिसे वीरता पुरस्कार मिलना चाहिए उसे शांति पुरस्कार क्यों ? अगर आप ऐसा सोंच रहें हैं तो आप गलत हैं,जी हाँ आज हम आपको एक ऐसे व्यक्तित्व से रूबरू कराएंगे जिनका जीवन सुख, दुःख, साहस ,संघर्ष और प्रेरणा की मिसाल है। आईये जानते हैं साहित्य जगत के एक ऐसी हस्ती के बारे में जिसके जीवन का सफर बहुत ही रंगीन रहा। हम बात करेंगे फैज अहमद की जिनकी कवितायेँ, शायरियाँ और गजल आपको दीवाने बना देंगे (faiz ahmed faiz)

faiz ahmed faiz,viral news,breaking news,hindi smchaar,braking

फैज़ अहमद फ़ैज़ की कवितायेँ बहुत ही रोमांचित करने वाली होती हैं। इनकी रचनाओं में इश्क़ के इजहार के मीठे बोल से लेकर बेवफाई के तीखे व्यंग तक शामिल होते हैं।

गज़ल की दीवानगी के साथ फ़ौज का जूनून

faiz ahmed faiz,viral news,breaking news,hindi smchaar,braking

साथ ही उर्दू भाषा के सबसे प्रसिद्ध लेखकों में से एक फैज़ को साहित्य में नोबेल पुरस्कार के लिए नामित किया गया था और उन्होंने लेनिन शांति पुरस्कार जीता था। आईये इस ख़ास कलाकार की रचनाओं और साहित्यों में इनकी रूचि के माध्यम से इनकी जीवन पर एक नजर डालते है –

faiz ahmed faiz,viral news,breaking news,hindi smchaar,braking
  • पंजाब में जन्मे फैज़ अहमद ने एक सैनिक होकर हाथियारों की लड़ाई के साथ साथ कलम की लड़ाई भी बखूबी लड़ी। यहाँ तक की जेल की दीवारों के दीदार में भी कोई कमी नहीं रही। शायद इसी वजह से इनकी जिंदगी जीवन के सभी अच्छे बुरे रंगो से रंगीन मानी जाती है। फैज़ अहमद फ़ैज़ एक पाकिस्तानी वामपंथी कवि और लेखक थें। (faiz ahmed faiz)
faiz ahmed faiz,viral news,breaking news,hindi smchaar,braking
  • अपने जीवनकाल के दौरान, फैज़ ने आठ पुस्तकें प्रकाशित कीं और अपने कामों के लिए प्रशंसा प्राप्त की। फैज़ एक मानवतावादी कवि थे । जिनकी लोकप्रियता पड़ोसी भारत और सोवियत संघ तक पहुँच गई। स्व-प्रकाशित स्रोत भारतीय जीवनी लेखक अमरेश दत्ता ने फैज़ की तुलना “पूर्व और पश्चिम दोनों में समान सम्मान” के रूप में की है।

साहित्य से जुड़ी थी आत्मा

  • जीवन भर उनकी क्रांतिकारी कविता ने सैन्य तानाशाह , अत्याचार, और उत्पीड़न के अत्याचार को संबोधित किया। फ़ैज़ ने स्वयं पाकिस्तान में दक्षिणपंथी दलों द्वारा धमकी दिए जाने के बावजूद अपने सिद्धांतों पर कभी समझौता नहीं किया।(faiz ahmed faiz)
faiz ahmed faiz,viral news,breaking news,hindi smchaar,braking
  • ब्रिटिश भारत में जन्मे फैज़ ने गवर्नमेंट कॉलेज और ओरिएंटल कॉलेज में अध्ययन किया। उन्होंने ब्रिटिश भारतीय सेना में सेवा की और ब्रिटिश साम्राज्य पदक से सम्मानित हुए। पाकिस्तान की स्वतंत्रता के बाद फ़ैज़ द पाकिस्तान टाइम्स के संपादक और कम्युनिस्ट पार्टी के एक प्रमुख सदस्य बन गए ।
  • 1951 में लियाकत प्रशासन को उखाड़ फेंकने और इसे वामपंथी सरकार के साथ बदलने की साजिश के एक कथित हिस्से के रूप में गिरफ्तार किया गया । 4 साल की जेल के बाद रिहाई दे दी गयी ।
faiz ahmed faiz,viral news,breaking news,hindi smchaar
  • पश्चिमी मॉडल पर आधारित उर्दू कविता में फैज़ का लेखन तुलनात्मक रूप से नया कविता रूप है। फैज़ अल्लामा इक़बाल और मिर्ज़ा ग़ालिब की रचनाओं से प्रभावित थे, उन्होंने आधुनिक को शास्त्रीय के साथ आत्मसात किया।
  • फैज़ ने देश में समाजवाद के विकास के लिए अधिक से अधिक माँगों का इस्तेमाल किया, समाजवाद को देश की समस्याओं का एकमात्र समाधान पाया। अपने जीवन के दौरान, फैज़ देश में सामाजिकता के कारण और विस्तार के लिए उर्दू कविता का उपयोग करते हुए अधिक व्यापक समाजवादी विचारों से चिंतित थे।

7 July, 2019

About Author

[email protected]