IPL 12: दिल्ली और हैदराबाद के बीच आज होगा मुकाबला, जो भी टीम हारी उसका सफर हो जाएगा खत्म

नई दिल्ली: इंडियन प्रीमियर लीग(IPL) 2019 के फाइनल का टिकट मिलने के बाद एक और जहां मुंबई इंडियंस जश्न मना रही है। वहीं दूसरी ओर दिल्ली कैपिटल्स और सनराइजर्स हैदराबाद की टीम की सांसे अटकी हुई है। दोनों टीम के लिए आज करो या मरो का मुकाबला है।

विशाखापट्नम के VCDA क्रिकेट स्टेडियम में खेले जाने वाले आज के एलिमिनेटर मैच के लिए दोनों टीम तैयार है। यह मुकाबला दोनों ही टीमों की मेहनत को तय करेगा। क्योंकि आज जो भी टीम हारती है, उसका इस सीजन का सफर खत्म हो जाएगा।

वहीं जो भी टीम जीत दर्ज करती है उसका मुकाबला चेन्नई सुपर किंग्स से क्वालीफ़ायर 2 में होगा। जीतने वाली टीम आईपीएल के खिताब के बेहद करीब आ जाएगी। हैदराबाद की टीम के लिए प्लस प्वॉइंट ये है कि हैदराबाद के लिए ये दूसरा धरेलू मैदान है।

इन खिलाड़ियों पर रहेगी नजरें

  • आज के मैच में दिल्ली कैपिटल्स के कप्तान श्रेयस अय्यर पर सबकी निगाहें रहेंगी। श्रेयस अय्यर ने अब तक बहुत ही बेहतरीन प्रदर्शन किया है।
  • श्रेयस अय्यर ने आईपीएल 12 में दिल्ली को अपनी बल्लेबाजी के दम पर बहुत से मैच में जीत दिलाई है।
  • अय्यर का साथ दिल्ली के ओपनर बल्लेबाज शिखर धवन ने बखूबी दिया है। श्रेयस अय्यर ने आईपीएल के इस सीजन में 14 मैच में 442 रन बनाये हैं।
  • वहीं शिखर धवन ने 14 मैच में 486 रन बनाये हैं। शिखर ऑरेंज कैप की दौड़ में 6 पायदान पर काबिज हैं।
  • Sunrises हैदराबाद की तरफ से मनीष पांडे ने भी अपना दम ख़म दिखाया है। मनीष ने इस आईपीएल के 10 मैच में 314 रन बनाये हैं।
  • हैदराबाद की तरफ से खलील अहमद ने बेहतरीन गेंदबाजी की है। खलील ने 8 मैच में 17 विकेट झटके है।

दोनों ही टीमों की ताकत

दिल्ली कैपिटल्स की ताकत: कोच रिकी पोंटिंग और सलाहकार सौरव गांगुली। दोनों पहली बार दिल्ली कैपिटल्स से जुड़े और टीम को प्लेऑफ में पहुंचाया। कगिसो रबाडा की कमी क्रिस मॉरिस पूरी कर रहे हैं। क्रिस मॉरिस रन थोड़े ज्यादा देते हैं, लेकिन विकेट निकालने में सफल रहे हैं। उनके 9 मैच में 13 विकेट हैं।

हैदराबाद की ताकत: केन विलियमसन भरोसेमंद कप्तान है। उनकी कप्तानी में हैदराबाद ने पिछले साल भी फाइनल खेला था। मनीष पांडेय का फॉर्म में होना टीम को बड़ी मदद दे सकता है। उन्होंने 11 मैच में 314 रन बनाए। वॉर्नर-बेयर्स्टो के बाद टीम के टॉप स्कोरर। खलील अहमद का पेस अटैक। उन्होंने 8 मैच में 8.21 के इकॉनमी से 17 विकेट लिए। वे इस सीजन के 3 मैच में 3-3 विकेट लेने वाले इकलौते गेंदबाज हैं।

दोनों टीमों की कमज़ोरी

दिल्ली कैपिटल्स की कमज़ोरी

  • कगिसो रबाडा के बाहर होने के कारण टीम का पेस अटैक कमजोर पड़ा। रबाडा टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा विकेट लेने वालों की दौड़ में शीर्ष पर हैं।
  • रबाडा ने 12 मैच में 25 विकेट लिए हैं। पृथ्वी शॉ और ऋषभ पंत के प्रदर्शन में उतार-चढ़ाव देखने को मिला है। पृथ्वी ने 14 मैच में 292 रन बनाए हैं।
  • पंत के 14 मैच में 401 रन हैं, लेकिन वे भी 5 बार 9 रन से ज्यादा स्कोर नहीं बना पाए। ट्रेंट बोल्ट का अंतिम ओवरों में ज्यादा रन देना। उन्होंने 3 मैच में 106 रन देकर सिर्फ 3 विकेट लिए।

Sunrises हैदराबाद की कमज़ोरी

  • टीम के टॉप स्कोरर्स डेविड वॉर्नर और जॉनी बेयर्स्टो का स्वदेश लौटना टीम के लिए एक कमजोर कड़ी मानी जा रही है।
  • हैदराबाद ने अब तक 14 मैच में 2193 रन बनाए हैं। इसमें आधे से ज्यादा यानी 1137 रन इन दोनों ने बनाए हैं।
  • जबकि वॉर्नर ने 12 और बेयर्स्टो ने 10 मैच ही खेले। सिद्धार्थ कौल ज्यादा असरदार साबित नहीं हुए हैं। उन्होंने पिछले साल 17 मैच में 21 विकेट लिए थे। इस बार 7 मैच में 6 विकेट ही ले पाए।

दोनों टीमों के संभावित खिलाड़ी

दिल्ली कैपिटल्स : श्रेयस अय्यर (कप्तान), पृथ्वी शॉ, शिखर धवन, ऋषभ पंत, कॉलिन इंग्राम, शेरफेन रदरफोर्ड, कीमो पॉल, अक्षर पटेल, अमित मिश्रा, इशांत शर्मा और ट्रेंट बोल्ट।

सनराइजर्स हैदराबाद : केन विलियमसन (कप्तान), ऋद्धिमान साहा, मार्टिन गप्टिल, मनीष पांडे, विजय शंकर, युसूफ पठान, मोहम्मद नबी, रशीद खान, भुवनेश्वर कुमार और खलील अहमद।