क्यों मनाते हैं विश्वकर्मा पूजा, क्या है पूजा की विधि
श्रद्धा के भाव

क्यों मनाते हैं विश्वकर्मा पूजा, क्या है पूजा की विधि

कृष्ण नगरी का भी किया निर्माण  

विश्वकर्मा भगवान के बारे भी कहा जाता है कि उन्होंने द्वारयुग में कृष्ण नगरी द्वारका का और त्रेतायुग में लंका का निर्माण किया था। इसलिए विश्वकर्मा भगवान को इतना ज्यादा माना जाता है और कारोबारी लोग अपने कारखाने से लेकर अपने घर तक उनकी पूजा करते हैं। लोग अपने महलों, दफ्तरों और दुकानों की श्रद्धा से पूजा करने पर उनको काफी ज्यादा लाभ और धन की विर्धि होती हैं।

source-google

विश्वकर्मा भगवान की जन्म कथा

ग्रंथों के अनुसार भगवान विष्णु की नाभि से निकले एक कमल से ब्रह्मा जी का जन्म हुआ। ब्रह्मा के पुत्र धर्म हुए, धर्म के सातवें पुत्र वास्तु हुए जो कि विश्वकर्मा जी के पिता थे।

source-google

विश्वकर्मा पूजा की विधि

आज के दिन सारे लोग सुबह जल्दी उठकर नहाने के बाद पूजा घर में विश्वकर्मा जी की मूर्ति या फोटो रख कर उनकी पूजा करते हैं। आज के दिन घर में रखे औजार, मशीनों की पूजा की जाती हैं। उसके बाद दफ्तर में रखी मशीनों की भी पूजा भी की जाती है।

source-google
17 September, 2019

About Author

Ashish Jain