पवन पुत्र हनुमान ने राम जी की कहने पर सीना चीर दिया, भक्तों के लिए हमेशा प्रकट होते है हनुमान
श्रद्धा के भाव

पवन पुत्र हनुमान ने राम जी की कहने पर सीना चीर दिया, भक्तों के लिए हमेशा प्रकट होते है हनुमान

Dharm: मंगलवार का दिन हनुमान जी का होता है। हनुमान जी को संकटमोचन कहा जाता है। इस कलयुग के दौर में हनुमान जी ही हमारी रक्षा करते है। राम भक्त हनुमान बहुत विशाल ह्रदय के होते है। कहा जाता है कि जहाँ श्री राम जी है वही पर उनके प्रिय भक्त हनुमान है। प्राचीन समय में श्री राम जी के आदेश पर रावण की बहुमूल्य सोने की लंका को आग से भस्म कर आए थे।

source-google

हनुमान जी के स्मरण से हमारा भय दूर होता है। कलयुग में हनुमान जी दुख कष्टों के निवारण करते है। हर मंगलवार हनुमान जी के भक्त उनका व्रत पूर्ण श्रद्धा भावना के साथ रखते है और उसको भोग लगाते है। हनुमान जी को उनका प्रिय भोग बूंदी और लड्डू का लगाया जाता है। भारत में मंगलवार की पूजा का प्रचलन प्राचीन वर्षो से चल रहा है। मंगलवार के दिन लोग हनुमान जी का व्रत और पूजा करते है। शाम को भोग लगाने मंदिर जाते है।

source-google

हनुमान जी का व्रत कैसे रखते है

तो आज हम आपको बताएंगे की हनुमान जी का व्रत कैसे किया जाता है और कैसे इसे सम्पूर्ण करते हैं। हिन्दू धर्म में मंगलवार के व्रत का महत्व बहुत अधिक माना जाता है। मान्यता है कि विधिपूर्वक व्रत रखने से लोगों के सभी तरह के भय और चिंताओं से मुक्त हो जाते है। अगर आप हनुमान जी की पूजा और व्रत करते है तो जानिए हमारे साथ इस मंगलवार क्या विधि विधान से भगवान की पूजा की जाए।

source-google

मंगलवार के व्रत की विधि

  • मंगलवार के दिन प्रातः काल जल्दी उठ जाना चाहिए और साथ ही स्नान कर लेना चाहिए।
  • इस दिन लाल रंग के वस्त्र धारण करे। यह शुभ माने जाते है.और भगवन को लाल पुष्प ,सिंदूर वस्त्र आदि चढ़ाये।
  • श्रद्धा पूर्वक दीया धुप जलाकर हनुमान चालीसा या सुंदरकांड का जाप करे।
  • शाम के समय हनुमान जी को बेसन के लड्डू। बूंदी या खीर का भोग लगाए। और खुद नमक रहित ही भोजन करे।
  • मंगलवार का व्रत करने वाले इस दिन विधि का पालन करें ।
source-google

कहा जाता है कि यह व्रत श्रद्धापूर्ण करने से हनुमान जी सम्पूर्ण चिंताओं को समाप्त और किसी भी तरह के भय से मुक्ति दिलाते हैं।

12 August, 2019

About Author

Shivam Thakur