Shiv Mandir: एक रात में बनाया था भूतों ने शिव मंदिर
श्रद्धा के भाव

Shiv Mandir: एक रात में बनाया था भूतों ने शिव मंदिर

अकाल मृत्यु वो मरे जो काम करे शैतान का .. काल उसका क्या करे जो भक्त हो महाकाल का … ये पंक्ति आपने कहीं न कहीं पढ़ी या सुनी होंगी, लेकिन इसका क्या अर्थ है वो जानना बेहद जरुरी है। अगर हम इसका सीधे तौर पर अर्थ निकाले तो जो मनुष्य भगवान शिव का सच्चे मन से भक्त है उसका मौत भी कुछ नहीं कर सकती है। लेकिन क्या आपको पता है कि मौत के बाद भूतों का एक बरसे था, जो शिव भगवान के प्रकोप से इतना डर गया कि उन्होंने एक रात में शिव मंदिर का निर्माण कर दिया।

source-google

उत्तर प्रदेश में है ये शिव मंदिर

उत्तर प्रदेश में आपको कई प्राचीन मंदिर मिल जाएंगे, जिनके बारे में कई मान्यताएं और कहानियां भी पढ़ने और सुनने को मिल जाती है। ऐसे में सिम्भावली के दातियाना गांव में एक प्राचीन शिव मंदिर है, जिसके बारे में कहा जाता है कि इसे भूतों ने बनाया है। ऐसे में सवाल ये है कि क्यों ?

source-google

एक रात में बन तैयार हो गया मंदिर

इस शिव मंदिर को स्थानिय लोग ‘भूतों वाला मंदिर’ के नाम से जानते हैं। लोगों का मानना है कि ये मंदिर एक रात में बनकर तैयार हो गया है। लाल रंग की ईंटों से बने इस मंदिर की ख़ास बात ये है कि इस मंदिर के निर्माण में सिमेंट का इस्तेमाल नहीं किया गया है। जोकि अपने आप में एक अदभूत बात है। इतना ही नहीं, राज्य में कई आपदाएं आईं लेकिन ये मंदिर हजारोें सालों से आज भी वैसा का वैसा है।

source-google

इतिहासकारों की मानें तो…

अगर हम वहां के स्थानिय लोगों की मानें तो ये मंदिर सूरज की रोशनी निकले से पहले बन गया था। लेकिन मंदिर का शिखर नहीं बन पाया था जिसे स्थानिय लोगों ने मिलकर बनाया। साथ ही उनका कहना है कि ये मंदिर वहां के लोगों की रक्षा करता है। लेकिन अगर हम इतिहासकारों की मानें तो भूतों की बात महज एक अफवाह है, ये मंदिर काफी पुराना, शायद ये मंदिर गुप्त काल का है।

source-google

ये लेख केवल धर्म के प्रति लिखा गया है, साथ ही धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित है। जिसे केवल जनरुचि के लिए लिखा गया है।

15 October, 2019

About Author

Ashish Jain