भगवान श्री कृष्ण की पत्नियां और उनका रिश्ता
श्रद्धा के भाव

भगवान श्री कृष्ण की पत्नियां और उनका रिश्ता

भगवान श्री कृष्ण (Lord Krishna) की लीलाएं बहुत ही अद्भुत रही है। उनके बचपन से ही उन्होंने अपने चमत्कार करने शुरू कर दिए थे। यहां तक कि वृंदावन में आज भी कृष्ण जी निवास करते है और रोज़ रात को निधि वन में रासलीला करते है। हमने अक्सर कृष्ण जी कर चमत्कार और उनके राधा से प्रेम के बारे में बात करी है या फिर उनके रासलीला के बारे में बात करी है। लेकिन आज हम बात करेंगे कृष्ण जी की पत्नियों (Lord Krishna’s Wife) के बारे में, उनकी कितनी पत्नियां (Wife) थी और उनके साथ कृष्ण जी का कैसा रिश्ता (Relation) था। कृष्ण (Lord Krishna) की 16,000 पत्नियां होने के पीछे राज क्या है।

Source-google

रुक्मिणी (Rukmini) से विवाह

पुराणिक कथाओं के अनुसार श्री कृष्ण ने रुक्मिणी का हरण किया था। रुक्मिणी(Rukmini) श्री कृष्ण के बारे में सुनने के बाद उन पर पूरी तरफ से मोहित थी और मन ही मन निर्णय कर चुकी थी कि श्री कृष्ण के अलावा किसी को भी वो अपने पति के रूप में स्वीकार नहीं करेंगी। रुक्मिणी का भाई रुक्म चाहता था कि रुक्मिणी(Rukmini) की शादी शिशुपाल से हो। श्री कृष्ण (Krishna) और रुक्मिणी(Rukmini) का रिश्ता बहुत ही अनोखा मगर अच्छा था।

Source-google

सत्यभामा(Satybhama) से विवाह

इसके अलावा श्री कृष्ण ने सत्यभामा(Satybhama) से भी विवाह किया। ऐसा कहा जाता है एक बार इंद्र भगवान ने कृष्ण को बताया कि राक्षस भौमासुर के अत्याचार से देवतागण त्राहि-त्राहि कर रहे हैं। इसके बाद श्रीकृष्ण अपनी प्रिय पत्नी सत्यभामा को साथ लेकर गरुड़ पर सवार हो राक्षस भौमासुर को मरने पहुंचे। भगवान कृष्ण ने अपनी पत्नी सत्यभामा की सहायता से सबसे पहले राक्षस भौमासुर फिर उसके छः पुत्रों का संहार किया।

Source-google

कालिंदी(Kalindi) से विवाह

एक दिन अर्जुन को साथ लेकर भगवान कृष्ण वन विहार के लिए निकले। जिस वन में वे विहार कर रहे थे वहां पर सूर्य पुत्री कालिंदी, श्रीकृष्ण को पति रूप में पाने की कामना से तप कर रही थी। कालिंदी की मनोकामना पूर्ण करने के लिए श्रीकृष्ण ने उसके साथ विवाह कर लिया।

Source-google

मित्रबिन्दा(Mitrbinda) से विवाह

इसी तरह कृष्ण एक बार किसी कार्य से उज्जयिनी गए थे। वहां पर राजकुमारी को वरने के लिए स्वंयवर चल रहा था जिसके बाद वो उज्जयिनी की राजकुमारी मित्रबिन्दा को स्वयंवर से वर लाए और विवाह करके बाकी रानियों के साथ उन्हें भी अपने महल में रखा।

Source-google

सत्या(Satya) से विवाह

पुराणिक कथाओं के अनुसार इसके बाद वो कौशल गए और वहां कौशल के राजा नग्नजित के सात बैलों को एकसाथ नाथ कर उनकी कन्या सत्या से विवाह किया।

Source-google

लक्ष्मणा(Lakshmana) से विवाह

भद्रदेश की राजकुमारी लक्ष्मणा भी कृष्ण को चाहती थी, लेकिन लक्ष्मणा के परिवार कृष्ण से विवाह के लिए राजी नहीं थे।  उनके परिवार का कहना था की कृष्ण की पहले से बहुत बीवी है अब तुम उनसे शादी नहीं करोगी। तब लक्ष्मणा को श्रीकृष्ण अकेले ही हरकर ले आए।

Source-google

16000 पत्नियों का रहस्य

ऐसा बताया जाता है कि भौमासुर की मृत्यु के बाद भौमासुर के द्वारा हरण कर लाई गईं 16,000 कन्याओं को श्रीकृष्ण ने मुक्त कर दिया। ये सभी अपहरण नारियां थीं या फिर भय के कारण उपहार में दी गई थीं और किसी और जगह से उस काम में लाई गई थीं। इन नारियों को कोई भी अपनाने को तैयार नहीं था, तब अंत में श्रीकृष्ण ने सभी को आश्रय दिया और उन सभी कन्याओं ने श्रीकृष्ण को पति रूप में स्वीकार किया।

Source-google
15 November, 2019

About Author

Rachna