यमराज का एक ऐसा मंदिर, जिसमें जाने पर लगता है डर
श्रद्धा के भाव

यमराज का एक ऐसा मंदिर, जिसमें जाने पर लगता है डर

‘यम है हम’ ये लाइन एक फिल्म की है जिसका नाम तकदीरवाला है, जिसमें खुद यमराज धरती पर आते हैं क्योंकि उनकी चमत्कारी किताब धरती पर गिर जाती है। ऐसे ही सदियों पहले यमराज धरती पर आए थे। जिसके बाद उनका एक मंदिर भी बना। जी हां, आपने सही पढ़ा है मंदिर… आपने कई भगवान, देवी-देवता, माताओं के मंदिर तो देखे ही होंगे। लेकिन यमराज का मंदिर है ये शायद पहली बार ही सुना होगा।

source-google

चित्रगुप्त के साथ रहते हैं यमराज

मौत के सौदागर कहें जाने वाले यमराज सबको उनके कर्मों के अनुसार फल देते हैं और दंड देने में वह बिलकुल भी नहीं चूकते। कहा जाता है कि इंसान के मरने के बाद स्वर्ग और नर्क का फैसला भी खुद यमराज लेते हैं। ऐसे में यमराज अपने मंदिर में किसी और के साथ नहीं बल्कि चित्रगुप्त के साथ रहते हैं।

source-google

कहां वसते हैं यमराज

भारत के हिमाचल में एक ऐसी जगह है जहां पर कोई जाना नहीं चाहता है, क्योंकि उन शांत पहाड़ियों में ही यमराज का मंदिर है। ये मंदिर दिल्ली से करीब 500 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। हिमाचल के चंबा में भरमौर नाम की जगह पर स्थित इस मंदिर की हवाओं में भी यमराज का नाम गूंजता है।

source-google

इस मंदिर की है अनोखी मान्यता

सभी मंदिरों की अपनी एक मान्यता होती है, वहां पर किसी न किसी देव-देवी का वास होता है, ऐसे में इस मंदिर की भी मान्यता है, जिसमें कहा जाता है कि ये मंदिर यमराज की कचेहरी है। यहां पर लोगों का लेखा-जोखा लिखा जाता है।

source-google

क्यों डरते हैं लोग

जब आप किसी मंदिर में जाते हैं या प्रवेश करते हैं तो आपको एक अनोखी की शांति या शक्ति का एहसास होता है। लेकिन इस मंदिर के नाम से ही लोग झेप जाते हैं। वे मंदिर के अंदर जाना तो दूर की बात है, बल्कि बाहर से ही हाथ जूड़ लेते हैं, और अपने जीवन की मनोकामनाएं मांग लेते हैं। लेकिन मंदिर के अंदर प्रवेश नहीं करते हैं।

source-google

धर्मराज भी कहते हैं इन्हें

यमराज को कोई नहीं बुलाना चाहता है क्योंकि वे जब भी आते हैं तो किसी न किसी मनुष्य को पृथ्वी लोक से यम लोक ले जाते हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि यमराज को धर्मराज भी कहते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि मौत के बाद का मार्ग दर्शन यमराज करते हैं।

source-google
10 October, 2019

About Author

Ashish Jain