World World Animal Day 2019: भारत में कैसे मनाते हैं इस दिवस को जानिए
देश, स्पेशल स्टोरी

World World Animal Day 2019: भारत में कैसे मनाते हैं इस दिवस को जानिए

World World Animal Day 2019: इस दुनिया में सबसे ज्यादा मासूम कौन होता है  तो हम सबको पता ही है, क्योंकि इस दुनिया में अगर सबसे ज्यादा मासूमियत की बात करें तो जानवर ही सबसे ज्यादा मासूम होता है। जानवर ही हमें प्यार का असली मतलब सीखने को मिलता है। जानवर हमारे सबसे अच्छे दोस्त होते, क्योंकि वो हमारा कभी भी साथ नहीं छोड़ते हैं।

SOURCE-GOOGLE

देखा जाए तो हम इंसान पूरी तरह से पशुओं पर ही निर्भर करते हैं। फिर चाहे वो गाय हो या फिर मुर्गा.. हम पशुओं के बिना अपना अस्तित्व नहीं सोच सकते हैं।

SOURCE-GOOGLE

कैसे रखी गई इस दिवस की नीव

विश्व पशु दिवस(World World Animal Day 2019) चार अक्टूबर को विश्व में मनाया जाता है। 4 ऑक्टूबर के दिन पशुओं के अधिकार और उनके विकास से जुडी बातों को महत्व दिया जाता है। आज कल के समय में जानवरों के प्रति की जाने वाली क्रूरता और हिंसा के प्रति सभी को जागरूक किया जाता है।

यह भी पढ़े: World Teachers Day 2019: याद आए स्कूल में बोले हुए झूठ

SOURCE-GOOGLE

कहा जाता है कि बहुत समय पहले पशु दिवस (World World Animal Day 2019) जर्मन के एक लेखक हेनरिक जिमर मैन के द्वारा मनाया गया था। सबसे पहले इसे 24 मार्च 1925 को बर्लिन में मनाया गया था। जिसमें करीब पांच हजार लोग इकट्ठे हुए थे। जिसके बाद पूरे विश्व ने इसे अपना लिया, साथ ही इसका एक दिन तय किया, जिसके कारण हम चार अक्टूबर को अंतरराष्ट्रीय पुश दिवस (World World Animal Day 2019) के रुप में मनाते हैं।

SOURCE-GOOGLE

क्यों मनाया जाता हैं पशु दिवस

World Animal Day Activities: इस दिवस को मनाने का केवल एक ही लक्ष्य है जो कि लोगों में पशुओं के प्रति प्रेम भाव को जागरुक करना है। इस दिन लोगों को पशुओं के प्रति हिंसा न करने के लिए कहा जाता है। ताकि हम इंसान अपने फायदे के लिए पशुओं की बलि न लें।

SOURCE-GOOGLE
  • इस दिन होते है कई कार्यक्रम
  • इस दिन पशुओं के मालिकों के लिए जागरुक कार्यक्रम होता है।
  • पशुओं के भी कुछ कानून होते हैं जिसके लिए लोगों को जागरुक किया जाता है।
  • डिवेट कार्यक्रम होता है जिसमें पशुओं से संबंधित मुद्दों पर चर्चा की जाती है।
SOURCE-GOOGLE

भारत में कैसे मनाते हैं

भारत देश विश्व में अपनी उदारता के लिए जाना जाता है, जिसके चलते इस दिन भारतीयों को पालतू पशुओं के साथ साथ आवारा पशुओं की देखभाल के लिए जागरुक किया जाता है। साथ ही भारत में पशुओं के प्रति कानून को भी बताया जाता है। इतना ही नहीं, कुछ स्थानों पर आज के दिन पशु मेला भी लगाया जाता है।

SOURCE-GOOGLE
4 October, 2019

About Author

Ashish Jain