क्या है PMC और HDIL बैंक घोटाला, जानिए पूरा कच्चा-चिट्ठा
देश, राजनीति, स्पेशल स्टोरी

क्या है PMC और HDIL बैंक घोटाला, जानिए पूरा कच्चा-चिट्ठा

पंजाब और महाराष्ट्र सहकारी बैंक के कई खाताधारकों ने पुलिस में बैंक के अधिकारियों के ख़िलाफ़ सामूहिक शिकायत दर्ज कराई है। खाताधारकों का कहना है कि बैंक ने उनके पैसों का गबन किया है। पुलिस ने बताया है कि ’14 खाताधारकों ने अपने खाते से धन गबन होने की बात कही है और जिन भी अधिकारियों के खिलाफ शिकायत दर्ज है उन सभी के पासपोर्ट ज़ब्त कर लिए गए है ताकि वे देश छोड़कर भाग न जाए।

source-google

रिजर्व बैंक ने पीएमसी बैंक पर नियम की खामियों के चलते कई पाबंदियां लगाई हैं, नियमों की अनदेखी करने से पीएमसी बैंक पर यह नकेल कसनी पड़ी, जिससे सबसे ज्यादा परेशानी बैंकों के ग्राहकों को उठानी पड़ेगी।

source-google

क्या है PMC फ्रॉड मामला

HDIL ने जो लोन बैंक से लिया था उस पर भी पूछताछ हो रही है। HDIL ने बैंक ऑफ़ इंडिया से 100 करोड़ का लोन ले रखा था जिसको वापस करने के लिए उसने PMC से लोन लिया। PMC के पूर्व एम डी जॉय थॉमस ने गलत तरीके से डमी खातों के द्वारा HDIL की मदद की थी। सूत्रों ने बताया कि, पिछले 10 सालों से हाउसिंग कंपनी एचडीआईएल को पैसे दिलाने के लिए बैंक ने कईं डमी खाते खोले थे। बैंक ने कुल 6,226 करोड़ रुपये एचडीआईएल को दिए थे।  HDIL रियल स्टेट सेक्टर का जाना माना नाम है जो की अब जल्द ही दिवालिया घोषित होने वाली है।

source-google

PMC और HDIL पर लगी कौन-कौन सी धारा

मुंबई के सियान पुलिस ने कंपनी और बैंक के 14 अधिकारियों के खिलाफ आईपीस की धाराएं 409, 420, 465, 466, 471 और 120बी के तहत मुकदमा दर्ज की है। सारंग वधावन और राकेश वाधवान एस्प्लेनेड कोर्ट द्वारा 9 अक्टूबर तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है।

source-ani

एक महीने पहले भी दिया गया लोन

बैंक ने एक माह पहले ही एचडीआईएल के मालिक सारंग वधावन को यह पर्सनल लोन दिया था,ताकि वो बैंक ऑफ इंडिया से लिए गए लोन की भरपाई कर सकें। बैंक ऑफ इंडिया ने लोन की किश्त जमा नहीं करने पर एचडीआईएल के खिलाफ दिवालिया प्रक्रिया शुरू करने के लिए नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल  में याचिका दायर की थी।

source-google

पंजाब और महाराष्ट्र राष्ट्र सहकारी बैंक के 5 राज्य में बहुत सारी शाखाएं है लेकिन इस बैंक के एटीएम की संख्या कम है।

source-google
4 October, 2019

About Author

Ashish Jain