सुप्रीम कोर्ट ने योगी सरकार की लगाई क्लास, पत्रकार प्रशांत को फौरन रिहा करने के दिए आदेश
देश

सुप्रीम कोर्ट ने योगी सरकार की लगाई क्लास, पत्रकार प्रशांत को फौरन रिहा करने के दिए आदेश

News Desk: उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ को सोशल मीडिया में इन दिनों जमकर कोसा जा रहा है। वजह पत्रकार प्रशांत कनौजिया की गिरफ्तारी है। दरअसल, सोशल मीडिया पर योगी आदित्यनाथ पर पत्रकार ने पोस्ट लिख दिया था, जिसके बाद उसकी गिरफ्तारी हो गई।

सुप्रीम कोर्ट पहुंचा पत्रकार की गिरफ्तारी का मामला

  • पत्रकार की गिरफ्तारी का मामला सुप्रीम कोर्ट(Supreme Court Journalist Prashant) तक पहुंच गया है। पत्रकार की गिरफ्तारी को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने भी नाराजगी जाहिर की है।
  • सुप्रीम कोर्ट ने योगी सरकार से प्रशांत कनौजिया(Journalist Prashant Release) को तुरंत रिहा (Journalist Prashant Release) करने के आदेश दिए हैं। कोर्ट ने कहा है कि एक नागरिक के अधिकारों का हनन नहीं किया जा सकता है, उसे बचाए रखना जरूरी है।
  • सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि आपत्तिजनत पोस्ट पर विचार अलग-अलग हो सकते हैं, लेकिन गिरफ्तारी क्यों ? इतना ही नहीं सुप्रीम कोर्ट(Supreme Court Journalist Prashant) ने प्रशांत कनौजिया की पत्नी को मामले को हाईकोर्ट ले जाने को कहा है।
प्रशांत मामले में सुप्रीम कोर्ट ने लगाई योगी को फटकार
Source-Aaj Tak

सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान आईपीसी की दारा 505 के तहत इस मामले में FIR दर्ज करने पर सवाल भी खड़े किए हैं। सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार से पूछा कि किन धाराओं के तहत पंकज की गिरफ्तारी हुई है।

यह भी पढ़े:मुलायम सिंह का हाल-चाल जानने के लिए आवास पहुंचे योगी, अखिलेश-शिवपाल भी रहे मौजूदhttps://newsup2date.com/uttarpradesh/up-cm-yogi-meets-sp-leader-mulayam-singh-yadav-at-his-residence/

योगी आदित्यनाथ के खिलाफ सोशल मीडिया पर की गई थी टिप्पणी

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के खिलाफ सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने का आरोप है। पति की गिरफ्तारी को लेकर पत्नी जिगीषा अरोड़ा कनौजिया ने गिरफ्तारी के विरोध में याचिका दायर की थी।

पत्रकार प्रशांत कनौजिया की गिरफ्तारी पर SC ने यूपी सरकार को लगाई फटकार, दिए रिहाई के आदेश
Source-Google

याचिका में कहा गया है कि प्रशांत की गिरफ्तारी गैरकानूनी है। याचिका के मुताबिक यूपी पुलिस ने इस संबंध में ना तो किसी एफआईआर के बारे में जानकारी दी है ना ही गिरफ्तारी के लिए कोई गाइडलाइन का पालन किया गया है। इसके अलावा ना ही उन्हें दिल्ली में ट्रांजिट रिमांड के लिए किसी मजिस्ट्रेट के पास पेश किया गया।

11 June, 2019

About Author

[email protected]