कांग्रेस दफ्तर के बाहर तैनात किए गए राफेल, वायुसेना प्रमुख के आदेश पर लिया फैसला
देश

कांग्रेस दफ्तर के बाहर तैनात किए गए राफेल, वायुसेना प्रमुख के आदेश पर लिया फैसला

News Desk: देश में एक बार फिर बीजेपी की सरकार बन गई है। मंत्रियों ने शपथ भी ले ली है.. शपथ के 16 घंटे बाद उनको मंत्रालय भी सौंप दिया गया है। लेकिन इन सबके बीच सबसे ज्यादा किसी को नुकसान हुआ तो वो कांग्रेस थी। भले ही इस बार 2014 के मुकाबले पार्टी के पास सीटें ज्यादा आई हो, लेकिन कांग्रेस की किरकिरी चारों ओर हो रही है। जिसे ‘हथियार’ का मोदी के खिलाफ कांग्रेस और खुद राहुल गांधी ने इस्तेमाल किया था। अब कांग्रेस को उसकी झलक हमेशा दिखती रहेगी।

जी हां हम बात कर रहे हैं विवादों में रहने वाला ‘राफेल’… राफेल लड़ाकू विमान वो शब्द है जिसके सहारे कांग्रेस ने बीजेपी पर निशाना साधने की कोशिश की थी, कांग्रेस के लिए ये वार अब भारी पड़ने लगा है। क्योंकि अब कांग्रेस दफ्तर जो भी आएगा उसे राफेल के दर्शन जरूर होंगे।

दरअसल, दिल्ली में 24 अकलबर रोड यानी कांग्रेस दफ्तर के बाहर राफेल विमान की प्रतिकृति लगाई गई है। हालांकि ये प्रतिकृति मौजूदा वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ के आवास के बाहर लगाई गई है। इस समय राफेल की ये प्रतिकृति आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। समाचार एजेंसी ANI ने इसकी तस्वीर शेयर की है।

दरअसल, कुछ दिन पहले ही बीएस धनोआ की अगुवाई में भारतीय वायुसेना ने मिग-21 लड़ाकू विमान के स्क्वाड्रन के जरिए शहीदों को श्रद्धांजलि दी थी। इस दौरान उन्होंने जब मीडिया से बात की थी, तब उन्होंने कहा था कि हम लोग राफेल लड़ाकू विमान का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। बता दें कि इसी साल सितंबर में राफेल विमान भारत आने वाला है, इस प्रतिकृति से इस बात की भी पुष्टि होती है कि भारत सरकार पर इस पर पीछे हटने वाली नहीं है।

चुनाव में जोर शोर से उठा था राफेल का मुद्दा

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर चोरी करने का आरोप लगाया था। राहुल ने राफेल विमान सौदे में घोटाले का आरोप लगाया था, जिसपर मोदी सरकार ने ज्यादा रिस्पोंस नहीं दिया था। इसी को लेकर राहुल की तरफ से चौकीदार चोर है के नारे भी लगाए थे। हालांकि, कांग्रेस को राफेल के मुद्दे पर चुनाव लड़ना भारी पड़ा। क्योंकि कांग्रेस को एक बार फिर चुनाव में करारी हार का सामना करना पड़ा है।

31 May, 2019

About Author

[email protected]