पेंटिंग के जरिए आज भी जिंदा है एम एफ हुसैन
देश

पेंटिंग के जरिए आज भी जिंदा है एम एफ हुसैन

नई दिल्लीः आज ऐसे व्यक्ति का जन्मदिन है, जिन्होंने अपने पेंटिंग के जरिए लोगों के दिलों में जगह बनाई है। जी हां, हम बात कर रहे हैं मकबूल फ़िदा हुसैन की, जिनका आज जन्मदिन है। इनका विवादों से भी खूब नाता रहा है, लेकिन फिर भी दुनिया इनके कलाकृतियों की दीवानी आज भी है और आज उनके जन्मदिन के मौके पर लोग उन्हें याद करते हैं।

source-google

जब हुसैन बहुत छोटे थे तब उनकी मां का देहांत हो गया। इसके बाद उनके पिता इंदौर चले गए जहां हुसैन की प्रारंभिक शिक्षा हुई। 20 साल की उम्र में हुसैन मुंबई गए और उन्हें जे जे स्कूल ओफ़ आर्ट्स में दाखला मिल गया।

source-google

शुरुआत में वे बहुत कम पैसो में सिनेमा के होर्डिन्ग बनाते थे। कम पैसे मिलने की वजह से वे दूसरे काम भी करते थे जैसे खिलोने की फ़ैक्टरी में जहां उन्हे अच्छे पैसे मिलते थे। पहली बार उनकी पैन्टिन्ग दिखाए जाने के बाद उन्हें बहुत तारिफें मिली, जिसके बाद वे प्रसिद्धि के सोपान चढ़ते चले गए और विश्व के अत्यंत प्रतिभावान कलाकारों में उनकी गिनती होने लगी। एमएफ़ हुसैन को पहली बार राष्ट्रीय स्तर पर पहचान 1940 के दशक के आख़िर में मिली। वर्ष 1947 में वे प्रोग्रेसिव आर्टिस्ट ग्रुप में शामिल हुए।

source-google

युवा पेंटर के रूप में एमएफ़ हुसैन बंगाल स्कूल ऑफ़ आर्ट्स की राष्ट्रवादी परंपरा को तोड़कर कुछ नया करना चाहते थे। वर्ष 1952 में उनकी पेंटिग्स की प्रदर्शनी ज़्यूरिख में लगी। उसके बाद तो यूरोप और अमरीका में उनकी पेंटिग्स की ज़ोर-शोर से चर्चा शुरू हो गई।

source-google

वर्ष 1955 में भारत सरकार ने उन्हें पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया। वर्ष 1967 में उन्होंने अपनी पहली फ़िल्म थ्रू द आइज़ ऑफ़ अ पेंटर बनाई। ये फ़िल्म बर्लिन फ़िल्म समारोह में दिखाई गई और फ़िल्म ने गोल्डन बेयर पुरस्कार जीता।

source-google

जब आये विवादों में-तथाकथित रूप से हिंदू देवी देवताओं के अश्लील चित्र बनाने के कारण हुसैन विवादों में फंस गए। 2006 में उनके खिलाफ खूब प्रदर्शन हुए और फिर उन्हें देश छोड़ने को मजबूर होना पड़ा। वह लंदन, दोहा और कतर में रहे। 9 जून 2011 को उनकी मृत्यु हो गई। लेकिन आज भी वे हमारे बीच में अपनी पेंटिंग के जरिए जिंदा हैं।

source-google

माधुरी की खूबसूरती के प्रेमी

एमएफ हुसैन माधुरी दीक्षित के बहुत बड़े प्रशंसक थे। 85 साल के उम्र में उन्होंने माधुरी के साथ ‘गजगामिनी’ बनाई। इसके बाद उन्होंने तब्बू के साथ ‘मीनाक्षी: अ टेल ऑफ थ्री सिटीज’ फिल्म बनाई थी। हुसैन तब्बू, विद्या बालन और अमृता राव के भी प्रशंसक रहे हैं।

source-google
17 September, 2019

About Author

Ashish Jain