Indian Air Force: जंग से लेकर स्ट्राइक तक वायु सेना ने दिखाया दमख़म
देश, स्पेशल स्टोरी

Indian Air Force: जंग से लेकर स्ट्राइक तक वायु सेना ने दिखाया दमख़म

भारतीय वायु सेना भारतीय शस्त्र सेना का एक मह्त्वपूर्ण अंग है। वायु सेना वायु युद्ध,वायु सुरक्षा और वायु चौकसी का काम करती है। वायु सेना की स्थापना 8 अक्टूबर 1932 में हुई थी। द्वितीय विश्वयुद्ध में वायु सेना का बहुत सहयोग था। भारतीय वायु सेना ने अपनी पहली उड़ान 1 अप्रैल 1933 को भरी थी। देश के  विभाजन की वजह से IAF (Indian Air Force) को अपने स्थायी बेस और अन्य स्थापनाओ को छोड़कर आना है। अभी विभाजन के ज़ख्म भरे भी नहीं थे की IAF को वापस काम पर लगना पड़ा। आज़ादी के बाद से ही भारतीय वायुसेना पडौसी मुल्क पाकिस्तान के साथ चार युद्धों व चीन के साथ एक युद्ध में अपना योगदान दे चुकी है।

source-google

भारतीय वायु सेना द्वारा सर्जिकल स्ट्राइक

वायुसेना ने 12 मिराज 2000 विमान, सुखोई 30 जेट, एक मिड एयर रिफ्यूलर और दो एयरबोर्न वार्निंग एंड कंट्रोल सिस्टम का प्रयोग भारत द्वारा पाकिस्तान पर किए गए सर्जिकल स्ट्राइक में इस्तेमाल किये थे। वायुसेना ने जैश के प्रशिक्षण शिविर को तबाह करने के लिए लेजर बमों का प्रयोग किया, एक-एक बम एक हजार किलो से ज्यादा वजनी था। यह कार्रवाई सुबह 3.45 बजे शुरू हुई और 4.05 बजे समाप्त हो गई थी। अधिकतर जेट विमान काफी नीचे उड़े ताकि पाकिस्तानी रडार की पकड़ में न आ सकें वहीं अवाक्स ने मिराज 2000 को रेडियल सुरक्षा दी थी।

source-google

Apache हेलीकॉप्टर हुआ शामिल

भारतीय वायु सेना के बेड़े में 2019 में काफी अत्याधुनिक एयर क्राफ्ट में शामिल हो चुके है। जो की कुछ इस प्रकार है। Apache- अपाचे हेलीकॉप्टर अमेरिका का दो टर्बोशाफ्ट इंजन और 4 ब्लेड वाला अटैक करने वाला हेलीकाप्टर है। यह हेलीकॉप्टर अपने आगे लगे सेंसर की मदद से रात में उङान भर सकता है। वायु सेना के जत्थे में 8 अपाचे भी शामिल हुए है। वायु सेना परेड में अपाची 8 अक्टूबर को शामिल हो जाएंगे। भारत ने अमेरिकी हथियार कंपनी बोइंग के साथ 4168 करोड़ रुपये में 22 अपाचे हेलीकॉप्टर खरीदने का सौदा कर रखा है, जो की भारत को अगले साल तक मिल जाएंगे।

source-google

MIG-29 हुआ शामिल

MIG-29- रूस ने भारत को 3 MIG-29 को भारत को सौंप दिया है। सुखोई के छोटे भाई कहे जाने वाले MIG-29 के भारतीय बेड़े में शामिल होने से पाकिस्तान की नींद उड़ गयी है। 2000 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ़्तार से उड़ने वाले इस विमान की रेंज 1400 किलोमीटर है। यह विमान हवा में ईंधन भरने में सक्षम है।

source-google

Rafael ने बढ़ाई शान

Rafael- राफेल से भारतीय वायु सेना की ताक़त अब और बढ़ने वाली है। फ्रांस ने भारत को उसका पहला राफेल विमान ‘RB 001’दे दिया है। आधारिक तोर पर ये विमान 8 अक्टूबर को भारतीय वायु सेना को सौप दिए जाएंगे। 9.3 टन के वज़न के साथ ये विमान 1650 किलोमीटर तक की उड़ान भरने में सक्षम है। इसके साथ ही इसकी मारक क्षमता 3700 किलोमीटर और रफ़्तार 1900 किलोमीटर प्रतिघंटे की है। 300 किलोमीटर की रेंज से हवा से जमीन पर हमला करने की क्षमता है। 1 मिनट में विमान के दोनों तरफ से 30 MM की तोप से 2500 राउंड गोले दागने की क्षमता भी है। इसके अलावा 2022 तक भारत को रूस 36 राफेल विमान और दे देगा।

source-google

स्वदेशी विमान Tejas करता है दुशमनों को नर्वस

Tejas- स्वदेशी हल्के लड़ाकू विमान तेजस का नौसेना के लिए तैयार किया गया संस्करण देश का पहला ऐसा विमान बन गया है जिसने सफलता पूर्वकअरेस्ट लैंडिंग की। जहां मानों को उतरने के लिए डेक पर बंधे तार को पकड़ना पड़ता है, एसी प्रक्रिया को ‘अरेस्ट लैंडिंग’ कहा जाता है। ये विमान 7.5 मीटर प्रति सेकंड (1500 फुट प्रति मिनट) की रफ़्तार से नीचे बिना किसी क्षति के पोत पर पहुंच सकता है।  

source-google

बालाकोट एयरस्ट्राइक

IAF चीफ RKS भदौरिया ने कहा ‘की क्या पाकिस्तान पायलटों के साथ भारत के संचार को जाम करने में सक्षम होगा जैसा कि उन्होंने विंग सीडीआर अभिनन्दन के मामले में किया था। हमने सुरक्षित रेडियो संचार के लिए कदम उठाए है ताकि पाकिस्तान के पायलट हमारे संचार सुन न सके।’

source-ani

भारतीय वायु सेना भारतीय सशस्त्र बलों की अन्य शाखाओं के साथ साथ आपदा राहत कार्यक्रमो में प्रभावित क्षेत्रों में राहत सामग्री गिराने, खोज एवं बचाव अभियानों, आपदा क्षेत्रों में नागरिक निकासी उपक्रम में सहायता प्रदान करता है।

source-google
7 October, 2019

About Author

Ashish Jain