‘Happy Childern’s Day’: बच्चों की हर फरमाइश होगी पूरी!
देश

‘Happy Childern’s Day’: बच्चों की हर फरमाइश होगी पूरी!

(Happy Childern’s Day) “बच्चे मन के सच्चे सारे जग की आंख के तारे” ये कविता हम सभी ने अपने बचपन में सुनी है। हर कोई इस कविता को गुनगुनाता रहता है। जिसको सुनकर बच्चों को अच्छा लगता है। लेकिन वही बच्चे जब शरारत करते हैं तो हम उनको डांट देते हैं जिससे बच्चे नज़र हो जाते हैं। फिर हम उनको मानाने के लाख जतन लें लेकिन बच्चे मानते नहीं हैं। जब तक उनको उनकी पसंदीदा चीज़ न देदो। बच्चे बहुत मासूम होते है और वे हर चीज़ का सच सच जवाब देते है।

source-google

जवाहलाल नेहरू के चहिते है बच्चे

बाल दिवस (Happy Childern’s Day) देशभर में हर साल 14 नवंबर को मनाया जाता है। इस दिन देश के पहले प्रधानमंत्री Jawaharlal Nehru का जन्मदिन भी मनाया जाता है। पंडित नेहरू को बच्चों से बेहद प्यार था। इसलिए बच्चे इनको चाचा नेहरू में नाम से भी बुलाते थे। इस दिन हर स्कूल में बच्चों के लिए इवेंट और प्रोग्राम रखे जाते हैं। और बच्चे अच्छे से रेडी होकर स्कूल जाते हैं।

source-google

कैसे होते है इवेंट्स

टैलेंट शो- इस दिन स्कूल्स में बच्चों के लिए टैलेंट शो ऑर्गनाइज़ किया जाता है। इसमें बच्चे अपना सिंगिंग और डांसिंग जैसे टैलेंट को सभी के सामने पेश करते हैं।

source-google

गेम्स- बच्चों के लिए इस दिन अच्छे-अच्छे गेम्स रखवाए जाते हैं जैसे- म्यूजिकल चेयर, ड्राइंग कॉम्पिटिशन और अंतक्षीरी भी खेली जाती है।

source-google

पिकनिक- हर कोई पिकनिक पसंद करता है और बच्चे तो घूमने के शौक़ीन होते ही है। तो कुछ स्कूल बच्चों को पिकनिक पर भी ले जाते हैं।

source-google

फैशन शो- इस दिन स्कूल में फैशन शो भी ऑर्गनाज किया जाता हैं। जिसमे बच्चे अलग-अलग ड्रेस पहनकर अपनी एक्टिविटी सभी के सामने करते हैं।

source-google

Jawaharlal Nehru के विचार

जवाहर लाल नेहरू को बच्चे बहुत पसंद थे। और बच्चो को भी नेहरू जी पसंद थे। बच्चे इनको चाचा नेहरू के नाम से बोलते थे। नेहरू जी ने बच्चों के लिए अपने विचार भी प्रकट किए हैं।

  • “The children of today will make the India of tomorrow. The way we bring them up will determine the future of the country.”
  • ”A university stands for humanism, for tolerance, for reason, for the adventure of ideas and for the search for truth.”
  • “The object of education was to produce a desire to serve the community as a whole and to apply the Knowledge gained not only for personal but for public welfare.”
source-google
13 November, 2019

About Author

Twinkle98