गोवा कांग्रेस की चिट्ठी से टेंशन मेंआई बीजेपी, बैठक बुलाकर अपने विधायकों को गिनना किया शुरू

नई दिल्ली: गोवा के सियासत में अचानक हुए उलट फेर ने बीजेपी के पूरे खेमे को टेंशन में डाल दिया है। कांग्रेस की ओर से राज्यपाल के नाम राजभवन पहुंची चिट्ठी ने बीजेपी को इधर-उधर हाथ पैर मारने पर मजबूर कर दिया है। यही वजह है कि दिल्ली से निर्देश मिलने के बाद गोवा बीजेपी ने एक बैठक बुलाई है। बैठक में कांग्रेस की ओर से किए गए दावे की जांच की जाएगी कि आखिर इस दावे में कितनी सच्चाई है।

दरअसल, गोवा कांग्रेस ने अचानक राज्यपाल को एक चिट्ठी लिखी जिसमें सरकार बनाने का दावा पेश किया। कांग्रेस ने चिट्ठी में लिखा है कि विधायक फ्रांसिस डिसूजा के निधन के बाद से विधानसभा में बीजेपी के 13 विधायक हैं। मनोहर पर्रिकर के नेतृत्व वाली सरकार लोगों का विश्वास खो चुकी है। ऐसे में जो पार्टी अल्पमत में है उसको सरकार में रहने का कोई हक नहीं है। हम चाहते हैं कि मौजूदा सरकार को बर्खास्त किया जाए और सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस को सरकार बनाने का मौका दिया जाए।

बता दें कि गोवा के पूर्व उप मुख्यमंत्री फ्रांसिस डिसूजा का हाल ही में निधन हो गया था। 64 साल के डिसूजा कैंसर से जूझ रहे थे। उनका अमेरिका में इलाज हो चुका था। वे गोवा राजीव कांग्रेस के उम्मीदवार के रूप में 1999 में गोवा विधानसभा के लिए चुने गए, और बाद में बीजेपी में शामिल हुए। वे 2002, 2007, 2012 और 2017 में भी विधानसभा के लिए चुने गए थे। 2012 में मनोहर पर्रिकर के नेतृत्व में बीजेपी की सरकार बनने पर डिसूजा को उप मुख्यमंत्री नियुक्त किया गया था।