‘चिली’ में कुछ भी चिल नहीं, लगा ‘आपातकाल’
देश, विदेश

‘चिली’ में कुछ भी चिल नहीं, लगा ‘आपातकाल’

आपने टीवी या अखबारों में कई तरह के विरोध प्रदर्शन की खबरों को पढ़ा होगा, आप में से कुछ लोगों ने प्रदर्शन को देखा भी होगा, लेकिन क्या कभी आपने ये सोचा है कि विरोध प्रदर्शन के कारण देश की राजधानी में आपातकाल (Emergency) भी लगाया जा सकता है। अगर नहीं, ये ख़बर पढ़कर आपको यकीन हो जाएगा।

Source-google

चिली में लगा आपातकाल

शनिवार को चिली (Chile) के राष्ट्रपति सेबास्टियन पिनेरा ने राजधानी में आपातकाल (Emergency) की घोषणा कर दी है। इस फैसले के पीछे का कारण हिंसा है, हिंसा वो भी ऐसी वैसी नहीं, विरोध प्रदर्शन वाली है। मतलब बात ये है कि मुद्दा कुछ नहीं है, बोले तो कुल मिलाकर लोग अपना विरोध दर्ज कराने के दौरान हिंसक हो गए। और जगह जगह पर आग लगा दी।

Source-ani

हिंसा का कारण क्या है

चिली में हाल ही में रेल कियार को बढ़ाया गया है, जी हां केवल रेल का कियारा बढ़ाया गया है। जिसके चलते वहां के नाकरिकों को गुस्सा आ गया है और वो सड़क पर उतर आए। इतना ही नहीं, उन्होंने मेट्रो स्टेशन पर आग तक लगा दी। साथ ही उनके हाथों में एक साइनबोर्ड भी था जिसपर लिखा था कि ‘Chile doesn’t wake up’ सैंटियागो मेट्रो में प्रतिदिन करीब 3 मिलियन पैसेंजर यात्रा करते हैं। यह मेट्रो शुक्रवार दोपहर से बंद करा दी गई है।

Source-google

सेना को मिली जिम्मेदारी

चिली (Chile) के राष्ट्रपति ने सैंटियागो में आपातकाल (Emergency) की घोकणकर सुरक्षा की पूरी जिम्मेदारी सेना के हाथों में सौप दी है। साथ ही उन्होंने कहा कि “मैंने आपातकाल की घोषणा कर दी है और हमारे देश के आपातकालीन कानून के प्रावधानों के अनुसार, मेजर जनरल जेवियर इटुरियागा डेल कैंपो को राष्ट्रीय रक्षा प्रमुख नियुक्त किया है” फिलहाल वहां पर माहौल काफी गर्म है, जिसके चलते ऑफिस, स्कूल को बंद कर दिया गया है। साथ ही नागरिकों को अपने घर में रहने की हिदायत दी गई है।

Source-google
19 October, 2019

About Author

Ashish Jain