Digital Society Day 2019: क्या है इसमें ख़ास
टेक्नाेलॉजी, देश

Digital Society Day 2019: क्या है इसमें ख़ास

भारत में डिजिटल सोसाइटी (Digital Society Day 2019) के लिए 17 अक्टूबर बहुत ही महत्वपूर्ण है। साल 2000, अक्टूबर 17 को सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम 2000 (Information Technology Act 2000) , भारत में डिजिटल समाज (Digital Society Day) के पहले कानून को अधिसूचित किया गया था। इस अधिसूचना ने देश में पहली बार, इलेक्ट्रॉनिक दस्तावेजों के लिए कानूनी मान्यता दी। इसने डिजिटल हस्ताक्षर के माध्यम से इलेक्ट्रॉनिक दस्तावेजों के प्रमाणीकरण की एक कानूनी रूप से मान्यता प्रदान की। इसके अतिरिक्त, सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम 2000 (Information Technology Act 2000) ने साइबर अपराधों को मान्यता दी और साइबर अपराधों के लिए एक फास्ट ट्रैक शिकायत निवारण सेल निर्धारित किया।

source-google

डिजिटल समाज के विकास में भारत का पहला संगठन

ये प्रावधान डिजिटल समाज के विकास के लिए महत्वपूर्ण थे क्योंकि ई-कॉमर्स और ई-गवर्नेंस (Ecommerce and E-governance) के समर्थन में डिजिटल समझौता को बनाने में सक्षम था। इसलिए यह उचित है कि उस दिन को भारत के इतिहास में एक महत्वपूर्ण घटना के रूप में याद किया जाए। साइबर लॉ कॉलेज 17 अक्टूबर को ‘डिजिटल सोसाइटी डे’ (Digital Society Day) के रूप में मान्यता देने और सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम (Information Technology Act 2000) के उद्देश्यों की पूर्ति से संबंधित विशिष्ट कार्यक्रम शुरू करने वाला भारत का पहला संगठन था।

source-google

डिजिटल सोसाइटी फाउंडेशन के कार्य (Digital Society Foundation)

  • साइबर कानून (Cyber Law), सूचना सुरक्षा और संबंधित क्षेत्रों के विषयों पर कार्यशालाओं, सेमिनारों का संचालन।
  • सूचना सुरक्षा और संबंधित क्षेत्रों में आचरण पाठ्यक्रम।
  • साइबर कानून (Cyber Law), सूचना सुरक्षा और संबंधित क्षेत्रों के विषयों पर आईटी और गैर आईटी पेशेवरों के लिए इन-हाउस प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करना।
  • नैतिक नैतिक आईटी कर्मचारियों के एक रजिस्टर की स्थापना।
  • साइबर लॉ कंप्लेंट ई-कॉमर्स संस्थाओं के एक रजिस्टर की स्थापना।
  • साइबर लॉ कंप्लेंट साइबर कैफे के एक रजिस्टर की स्थापना।
source-google

हर साल तीन पुरस्कार

  • डिजिटल सोसाइटी(Digital Society) फाउंडेशन हर साल तीन पुरस्कार भी प्रदान कर रहा है, ये पुरस्कार जागरूकता को बढ़ावा देता है।
  • भारत में साइबर कानूनों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए सर्वश्रेष्ठ पत्रकारिता का प्रयास (Best Journalistic Effort to promote awareness of  Cyber Laws in India)
  • साइबर लॉ से संबंधित क्षेत्र में एक छात्र द्वारा सर्वश्रेष्ठ परियोजना (Best project by a student in a field related to Cyber Laws)
  • चुनिंदा उद्योग में सर्वश्रेष्ठ “साइबर लॉ कंप्लेंट” इकाई (Best “Cyber Law Compliant” unit in a select industry)
source-google

कब हुआ शुरू

बहुत पहले संगठन ने अधिनियम के उद्देश्यों की पूर्ति से संबंधित विशिष्ट कार्य किए जो साइबर लॉ कॉलेज थे। यह डिजिटल सोसाइटी डे(Digital Society Day) को मान्यता देने वाला पहला था। इस दिवस का औपचारिक उत्सव 2006 में बैंगलोर में ही शुरू किया गया था, जहाँ इस कार्यक्रम का आयोजन डिजिटल सोसाइटी फाउंडेशन (Digital Society Foundation) द्वारा किया गया था। उत्सव के पहले वर्ष के बाद से फाउंडेशन प्रतिवर्ष विशेष गतिविधियों और कार्यक्रमों को आयोजित करता है।

source-google

इस डिजिटल सोसाइटी फाउंडेशन (Digital Society Foundation) के कार्यक्रम में उद्घाटन भाग शामिल होगा जिसमें आमंत्रित गणमान्य व्यक्ति भाग लेंगे और कार्यक्रम के दूसरे भाग में “प्रस्तावित संशोधनों को आईटीए -000” पर एक सेमिनार शामिल होगा। लक्षित दर्शक वकील, चार्टर्ड एकाउंटेंट और आईटी पेशेवर होंगे। इस विषय पर चर्चा होगी कि प्रस्तावित संशोधन सूचना परिसंपत्ति मालिकों के हितों की रक्षा कैसे करेंगे। कार्यक्रम का पूरा विवरण संलग्न है।

source-google
16 October, 2019

About Author

Ashish Jain