वीरेंद्र बने लोकसभा के प्रोटेम स्पीकर, गले में गमछा और बिन हैलमेट स्कूटर की सवारी है पहचान

News Desk: नई सरकार के गठन के बाद 17 जून से संसद का सत्र शुरू हो जाएगा। सत्र के शुरू होने से एक हफ्ते पहले लोकसभा के प्रोटेम स्पीकर(Virendra kumar Protem Speaker) के नाम का ऐलान भी हो गया है। समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक बीजेपी सांसद(Member Of parliament) वीरेंद्र कुमार संसद सत्र से पहले दो दिन नए सांसदों को शपथ दिलाएंगे।वीरेंद्र कुमार(Virendra kumar Protem Speaker) टीकमगढ़ से चुनकर संसद पहुंचे हैं।

यह भी पढ़े: सुप्रीम कोर्ट ने योगी सरकार की लगाई क्लास, पत्रकार प्रशांत को फौरन रिहा करने के दिए आदेशhttps://newsup2date.com/national/supreme-court-orders-immediate-release-of-freelance-journalist-prashant-kanojia/

कौन हैं वीरेंद्र कुमार?

  • वीरेंद्र कुमार खटीक दलित समुदाय से आते हैं और लो प्रोफाइल नेता के तौर पर उनकी पहचान रही है। मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ से सांसद वीरेंद्र कुमार सागर जिले के रहने वाले हैं।
  • वीरेंद्र कुमार 4 बार सागर लोकसभा सीट से सांसद(Member Of parliament) चुने गए, जबकि तीन बार उन्हें टीकमगढ़ से चुनावी समर में सफलता मिली है।
  • पीएम मोदी के नेतृत्व वाली पहली सरकार में वह अल्पसंख्यक मंत्रालय एवं महिला एवं बाल विकास मिनिस्ट्री में राज्यमंत्री थे।
  • बचपन से ही आरएसएस से जुड़े डॉ. वीरेंद्र कुमार को सागर और टीकमगढ़ क्षेत्र में सादगी के लिए जाना जाता है। कई बार वह आने-जाने के लिए लिफ्ट लेते हुए भी दिखाई दिए हैं।
Image result for वीरेंद्र कुमार टीकमगढ़
Source-Google

प्रोटेम स्पीकर का क्या काम होता है ?

बता दें, प्रोटेम स्पीकर को लोकसभा के नियमित स्पीकर के चुनाव से पहले कामकाज को अंजाम देने के लिए नियुक्त किया जाता है। प्रोटेम स्पीकर सदन के सबसे सीनियर सदस्य को बनाया जाता है। प्रोटेम स्पीकर ही सदन में नए चुनकर आए सदस्यों को शपथ दिलाते हैं। नए स्पीकर के चुनाव के बाद प्रोटेम स्पीकर का काम समाप्त हो जाता है।