fbpx

क्रिकेटर श्रीसंत को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत, हटाया गया लाइफ टाइम बैन-BCCI तय करेगी सजा

नई दिल्ली। IPL स्पॉट फिक्सिंग मामले में फंसे क्रिकेटर एस. श्रीसंत को बड़ी राहत देते हुए सुप्रीम कोर्ट ने उनपर लगा आजीवन बैन हटा दिया है। हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने साथ ही कहा है कि BCCI को अनुशासनात्मक कार्यवाही करने का अधिकार है। सुप्रीम कोर्ट ने BCCI से श्रीसंत को सुनवाई का मौका देने और 3 महीने में सजा तय का आदेश दिया है।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि श्रीसंथ पर लगाए प्रतिबंध पर बीसीसीआई को फिर से विचार करना चाहिए। अदालत ने कहा कि बीसीसीआई श्रीसंथ का भी पक्ष सुने। सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आजीवन प्रतिबंध ज्यादा है, इसलिए इसे हटाया जाता है।

जस्टिस अशोक भूषण की अध्यक्षता वाली सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने बीसीसीआई को कहा है कि श्रीसंत को दी गई सजा के बारे में तीन महीने के अंदर जल्द फैसला करे। अब बीसीसीआई को श्रीसंत पर तीन महीने के अंदर फैसला सुनाना होगा। बीसीसीआई को बताना होगा कि श्रीसंत के उपर लगे प्रतिबंध को हटाने के बाद उन्हें क्या सजा दी जाएगी।

गौरतलब है IPL-2013 में स्पॉट फिक्सिंग का दोषी पाए जाने पर बीसीसीआई ने श्रीसंत पर अजीवन प्रतिबंध लगा दिया था। श्रीसंत ने इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका डाली थी। बीसीसीआई ने कोर्ट में कहा कि श्रीसंत पर भ्रष्टाचार, सट्टेबाजी और खेल को बेइज्जत करने के आरोप हैं।

इस मामले में श्रीसंत, अंकित चव्हाण और अजीत चंदीला सहित स्पॉट फिक्सिंग मामले में सभी 36 आरोपरियों को जुलाई 2015 में दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने आपराधिक मामले से बरी कर दिया था। श्रीसंत ने 2015 में श्रीलंका के खिलाफ नागपुर में एकदिवसीय मैच के साथ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया था। उन्होंने 2016 में इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट पदार्पण किया। श्रीसंत ने 27 टेस्ट में 37.59 के औसत से 87 विकेट जबकि वनडे में 53 मैचों में 33.44 की औसत से 75 विकेट चटकाए।