अगर आप है मांसाहारी तो हो जाए सावधान नहीं तो गवा सकते है अपनी जान
सेहत

अगर आप है मांसाहारी तो हो जाए सावधान नहीं तो गवा सकते है अपनी जान

अगर आप भी नॉन वेज खाने के है शौकीन तो यह जान जरूर लीजिए कि जो आप नॉन वेज में चिकन कहते है। उसे कई तरीके के बीमारियां हो सकती है। जिसमें से एक है बर्ड फ्लू। जो ज्यादातर मुर्गे में पाई जाती है। इस बीमारी को एवियन इन्फ्लूएंजा भी कहते है। जिसका मतलब होता है कि पक्षियों को लगने वाला जुकाम और नजला। अगर आप भी मीट खाते है तो मुर्गे में लगे हुए कीटाणु सारे आपके शरीर में भी आ जाते है। जो इंसान के शरीर में सबसे ज्यादा खतरनाक साबित होता है। बर्ड फ्लू भी काफी तरीके के होते है लेकिन जो सबसे ज्यादा H5N1 होता है। यह फ्लू इंसान और अन्य जानवरों को सबसे ज्यादा फैलने का दावा हुआ है।

source-google

क्या होता है H5N1 एवियन इन्फ्लूएंजा ?

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन ने बताया है कि बर्ड फ्लू 1997 में पहली बार इंसान को हुआ था। जिसमे 60 % लोग मारे गए थे। इंडिया में 2005 में ये वायरस इंसान को सबसे ज्यादा होता है और यह बीमारी जानवरों से इंसान को फैलती है। भारत अब ऐसा देश है जिसमे बर्ड फ्लू पूरे तरीके से खत्म कर दिया गया है।

source-google

बर्ड फ्लू के लक्षण

  • बर्ड फ्लू में इंसान को सबसे ज्यादा खाँसी और दस्त होते है।
  • एक दम से सांस लेने में तकलीफ होने लगती है।
  • सर दर्द, जोड़ों में दर्द, बेचैनी और गर्मी में भी बुखार आना।
  • नाक से पानी बहते रहना, गले में दर्द होना
source-google

बर्ड फ्लू से बचने के उपाय

  • अगर आपके आस पास किसी पक्षी की मौत हो जाती है। तो उसे दूर रहे और विभाग को फोन करके बताएं।
  • बर्ड फ्लू वाले एरिया का नॉन वेज बिलकुल भी नहीं खाए।
  • जहा से नॉन वेज खरीदे वहां साफ तरीके का ही मीट लें।
  • बर्ड फ्लू के समय मास्क पहन कर ही घर से बाहर निकले।
  • अगर आपको यह वायरस हो गया है तो ज्यादा से ज्यादा आराम करें।
  • पेट भर कर स्वस्थ खाना खाए।
source-google
9 September, 2019

About Author

Shivam Thakur