दुनिया में आग की तरह फैल रही है ये भयंकर बीमारी, दर्द के साथ ही काम करना बंद कर देगा दिमाग

Health Desk: मल्टीपल स्क्लेरोसिस… सेंट्रल नर्वस सिस्टम से जुड़ी एक बहुत ही खतरनाक बीमारी है। इस बीमारी से आपकी ऑप्टिकल सिस्टम के साथ साथ रीड़ की हड्डियों एवं मानसिक विकार के होने की संभावना होती है। ऐसा देखा जा रहा है की इस बीमारी (मल्टीप्ल स्क्लेरोसिस) से ग्रसित लोगों की संख्या आए दिन बढ़ती जा रही है। ऑटोइम्यून नामक बीमारी के नाम से पहचाने जाने वाली यह बीमारी बहुत ही घातक साबित होती जा रही है।

इस बीमारी में आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली आपकी कोशिकाओं और तंत्रिकाओं को सुरक्षित रखने वाले आवरण को नष्ट कर देती है। इसके कारण आपके शरीर में होने वाले माइलिन की क्षति से आपके हड्डियों और मस्तिष्क के साथ-साथ शरीर के अन्य हिस्सों को भी प्रभावित करती है। इस बीमारी के कारण आपके शारीरिक तालमेल बिगड़ने लगते हैं। आमतौर पर इस बीमारी के लक्षण अलग-अलग लोगों में भिन्न-भिन्न तरह से दिखाई देते हैं।

लेकिन आज हम आपको इस बीमारी के मुख्य लक्षण एवं इस बीमारी से बचने के कुछ उपाय बताएंगे जो आपको इस बीमारी के घातक परिणाम से बचाने में बहुत कारगर साबित होंगी। आईये जानते हैं कुछ खास बातें जो इस बीमारी से आपको निजात दिलाएंगी

क्या हैं इस बीमारी के खास लक्षण

  • इस बीमारी के मरीजों में अक्सर लोग इन्डिपेंडेंटली या पूरी तरह से चलने की क्षमता खो देते हैं।
  • लोगों में अस्पस्ट बोलने की बोलने की समस्या होना।
  • शरीर के किसी हिस्से का सुन्न हो जाना।
  • दृष्टि सम्बन्धी समस्या होना।
  • चक्कर आना या थकान होना।
  • खासकर रीड़ की हड्डियों में दर्द होना इस बीमारी का अहम हिस्सा है।

इस बीमारी से बचने के सफल उपाय

  • अधिक से अधिक पोषक तत्व का सेवन करें। साथ ही नशीले पदार्थों के सेवन से बचें।
  • ऐसे किसी पदार्थों का सेवन या उपयोग ना करें जिससे आपको एलर्जी की समस्या होती हो।
  • पूरक पदार्थों का सेवन करें।
  • अपने रोजमर्रा के जिंदगी में व्यायाम को अवश्य शामिल करें।

हालांकि अभी तक मल्टीपल स्क्लेरोसिस का कोई कारण सामने नहीं आया है। विशेषज्ञों का मानना है कि अनुवांशिक तौर पर भी यह बीमारी हो सकती है। यदि आप भी शारीरिक तौर से किसी परेशानी से गुजर रहें हैं तो शीघ्र ही इलाज कराएं अथवा अधिक समय तक कोई भी समस्या आपके लिए इस बीमारी की जड़ बन सकती है। मेडिकल साइंस में इस बीमारी के लिए कुछ दवाईयां भी उपलब्ध है। इसलिए अगर आपको ऐसी समस्या है तो तुरंत डॉक्टर्स की सलाह से अपना इलाज कराएं।