जानलेवा ‘निपाह’ वायरस ने भारत में दी दस्तक, केरल से आया पहला मामला.. दिल्ली से रवाना हुई टीम

नई दिल्ली: जून महीने की शुरूआत के साथ ही दिमागी बुखार यानी निपाह वायरस ने भारत में एक बार फिर दस्तक दे दी है। दक्षिणी भारत से निपाह वायरस का पहला मामला सामने आया है। 23 साल का एक छात्र निपाह वायरस का शिकार हुआ है। ये छात्र कोच्चि का रहने वाला है।

इस बात की जानकारी राज्य की स्वास्थ्य मंत्री के.के शैलजा ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान दी। प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान ने पुष्टि की है कि 23 साल के छात्र के खून में निपाह वायरस पाया गया है। लेकिन घबराने की जरूरत नहीं है, पुष्टि से पहले ही सरकार ने एहतियात बरतनी शुरू कर दी थी। इधर, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि हमने आज केरल में निपाह वायरस की स्थिति का जायजा लिया और स्वास्थ्य मंत्रालय में एक बैठक की।

डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि राज्य सरकार की मदद के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय के विशेषज्ञों और अधिकारियों की एक टीम पहले ही केरल पहुंच गई है। उन्होंने आगे कहा कि निपाह के शक के 86 मामले अब तक आ चुके हैं। जिसमें से एक की पुष्टि की है। इसके लिए स्वास्थ्य मंत्रालय में एक नियंत्रण कक्ष का गठन किया गया है। बता दें कि निपाह से संक्रमित छात्र एर्नाकुलम जिले का रहने वाला है। वह हाल में शिविर के संबंध में त्रिशूर में था।