तनाव दूर करना हो तो अपनाएं योगनिद्रा, योगनिंद्रा (Yoga nidra)के लाभ,योगनिद्रा कैसे करें

नई दिल्ली। योगनिद्रा (Yoga nidra) मानसिक और शारीरिक दोनों प्रकार से स्वस्थ्य रहने का आसान उपाय है। योगनिद्रा के जरिए मस्तिष्क व शरीर में नई ऊर्जा का संचार होता है। इसके फायदों की वजह से कई लोग योगनिद्रा को अपना रहे हैं। तो चलिए, जानते हैं योगनिद्रा क्या है, इसको कैसे करे और इससे क्या फायदे होते हैं। साथ ही जानेंगे योगनिद्रा के आसन जो आपको तनाव से दूर रख स्वस्थ्य रखेंगे।

योगनिद्रा (Yoga nidra) क्या है ?

आप योगनिद्रा को आध्यात्मिक नींद भी कह सकते है। योगनिद्रा सोने व जागने के बीच की एक ऐसी अवस्था है, जिसमे आप अपने शरीर को आराम पहुंचाते हुए नवीन ऊर्जा को सरंक्षित करते है। योगनिद्रा के अभ्यास के शुरूआती दौर में आप सो भी सकते हैं। परंतु धीरे-धीरे आपको इसे करने का सही तरीका आ जायेगा।

योगनिद्रा करते समय आप ज़मीन  पर लेट जाए और अपनी सांसों पर ध्यान देते हुए अपने अन्तर्मन में झांकने का प्रयास करे। कुछ समय बाद आप शान्ति महसूस करने लगेंगे, इसे ही योगनिद्रा कहते है। स्वामी सत्यानंद जी कहते है कि कुछ समय की योगनिद्रा आपकी घंटों की नींद के आराम के बराबर होती है। योगनिद्रा को लगातार करने से आपका मस्तिष्क पहले से अधिक सक्रिय हो जाता है।

योगनिद्रा (Yoga nidra) के लाभ : आज के शहरी वातावरण में हर दूसरे व्यक्ति को तनाव या अवसाद की समस्या हो जाती है। इसके चलते लोग अन्य बीमारियों की चपेट में भी आ जाते है। इस तरह की समस्याओं से बचने के लिए योगनिद्रा एक कारगर उपाए मानी जाती है। आइये जानते है योगनिद्रा के कुछ फायदे –

1  योगनिद्रा से आप अपने मस्तिष्क को आराम पहुंचा सकते है।

2  योगनिद्रा की मदद से योग की अन्य मुद्राओं को करने के बाद शरीर के तापमान को सामान्य स्तर  पर लाया जा सकता है।

3  इसकी मदद से विभिन्न आसनों से प्राप्त ऊर्जा को नियंत्रित करके तंत्रिका तंत्र के कार्यो को सुचारु रूप से किया जा सकता है।

4  योगनिद्रा को करने से एकाग्रता बढ़ती है। आप किसी भी काम को करने में एकाग्र हो पाते है।

5  योगनिद्रा से मस्तिष्क की थकान दूर होती है जिसके फलस्वरूप आप तनाव मुक्त हो जाते है।

6  आपके तंत्रिका तंत्र का कार्य सुचारु रूप से होने से शरीर के अन्य अंगो की कार्य क्षमता बढ़ जाती है।

योगनिद्रा करने वाली महिलाओं और पुरुषों पर अध्ययन किया गया, जिसमें इनके मस्तिष्क का स्कैन किया गया। इस अध्ययन में शोधकर्ताओं द्वारा पाया गया कि  योगनिद्रा के दौरान इन सबका मस्तिष्क सोने की अवस्था के सामान आराम की स्थिति में पहुंच गया था। जबकि, वह लोग सोए नहीं थे। इससे पता चला कि योगनिद्रा से आप अपने मस्तिष्क को नियंत्रण में कर सकते है और अपने मस्तिष्क की कार्यक्षमता को बड़ा सकते हैं।

योगनिद्रा कैसे करें

चलिए जानते है योगनिद्रा(Yognindra) कैसे करते है –

1 योगनिद्रा (Yoga nidra) के अभ्यास के लिए किसी खुली जगह का चुनाव करें। यह जगह ऐसी होनी चाहिए जहां आपको को कोई परेशान न करें व आप आसानी से योगनिद्रा कर पाएं।

2  योगनिद्रा (Yoga nidra) के लिए ढीले कपड़ों का चुनाव करें। इसको करने से पहले ज़मीन पर कम्बल या किसी अन्य कपड़े को बिछाएं।

3  शवासन में (पीठ के बल ) लेट जाए। आँखों को बंद कर ले। शुरू में श्वांस लेते धीरे-धीरे सामान्य अवस्था में आयें।

4  इसके पश्चात आपको अपने मन व मस्तिष्क को शांत करना होगा और दिमाग में चलने वाले सभी विचारों को भूल जाना होगा।

5  इसके बाद आप अपने ध्यान को दाएं पैर व पंजे पर ले जाए। इस जगह अपने ध्यान को कुछ सेकंड तक केंद्रित करें। इसके बाद ऊपर की ओर आते हुए घुटनों व जांघों पर अपने ध्यान को लगायें। इस प्रकार दायें पैर को पूर्ण सचेत अवस्था में कर दें।

6  दाएं पैर पर अपनाई गई ध्यान प्रक्रिया को बाएं पैर पर भी दोहराएं।

7  इसके बाद ध्यान को अपने मध्य अंगो जैसे -जनांगो ,पेट,नाभि व छाती पर ले जाएं।

8  शरीर के मध्य भाग को पूरा करने के बाद आपको अपने ध्यान को अपने हाथों की उंगलियों, हथेलियों, कोहनियों, कन्धों, गर्दन तथा चेहरे व मस्तिष्क के भागों तक ले जाना होगा।

9  सभी अंगों तक ध्यान को ले जाने के बाद गहरी श्वांस ले और शरीर में आ रही स्वस्थ तरंगों को महसूस करें।

10  इसके बाद ध्यान को धीरे-धीरे बाहरी वातावरण की ओर ले जाएं।

11 इसके बाद दाहिने ओर की तरफ करवट लें तथा बाईं नासिका से सांस को बाहर छोड़ें। इससे आपके शरीर का तापमान सामान्य अवस्था में आ जायेगा।

12 कुछ देर बाद उठ कर बैठ जाएं और आँखें खोल लें।

तो इस तरह से करे योगनिद्रा (Yoga nidra) का अभ्यास और शारीरिक व मानसिक तनाव को करे दूर.अपने अनुभव को हमसे साझा करना न भूलें हरि ॐ।