स्टोन मसाज थेरेपी: काले ज्वालामुखी चट्टानों से होती है मालिश, थकान के साथ मानसिक तनाव से भी रखता है दूर
सेहत

स्टोन मसाज थेरेपी: काले ज्वालामुखी चट्टानों से होती है मालिश, थकान के साथ मानसिक तनाव से भी रखता है दूर

नई दिल्ली: आज की व्यस्तता भरी जिंदगी में हर कोई रोजमर्रा की समस्याओं और तनाव से परेशान है, जिसे हम रोज की बातें समझ कर नजरअंदाज कर जाते हैं। लेकिन आपकी यह गलती आपके लिए बहुत ही हानिकारक हो सकती है। तनाव और थकान को दूर करने में सबसे बेहतर तरीका मसाज थेरेपी होती है।

मसाज आपके शरीर के मांसपेशियों को जिवंत बना कर ब्लड सर्कुलेशन की समस्या को भी दूर करता है। डॉक्टर्स का भी मानना है की अगर आप अपनी रोजमर्रा की जिंदगी को इन समस्याओं और परेशानियों से दूर रखना चाहते हैं, तो मसाज आपके लिए सबसे सही विकल्प है।

मसाज आपके शारीरिक थकान के साथ मानसिक तनाव को भी कम करता है। मसाज के कई प्रकार है। आपकी अलग अलग समस्याओं के लिए अनेको मसाज उपलब्ध हैं। जिसकी मदद से आप अपनी परेशानियों से छुटकारा पा सकते हैं। आज हम आपको बताएंगे एक ऐसे मसाज थेरेपी के बारे में जिसे थकान और तनाव के लिए सबसे बेहतर माना जाता है। मसाज आपके शरीर, मस्तिष्क एवं रक्तसंचार के लिए आवश्यक होता है। आईये जानते है एक ऐसे ही मसाज के बारे में जो आपको इन सभी समस्याओं से आजादी दिलाएगी। हम बात करने जा रहे हैं Hot stone massage therapy के बारे में।

क्या है हॉट स्टोन मसाज थेरेपी ?

हॉट स्टोन मसाज थेरेपी को गर्म पत्थर की मालिश भी कहते हैं। यह एक ऐसी थेरेपी है। जिसमें आपकी शरीर को तनावमुक्त बनाने के लिए डॉक्टर या पीजिओथेरेपिस्ट एक चुनिंदा प्रकार के पत्थर के प्रयोग से आपके शरीर की मालिश करते हैं। इसे रीढ़ की हड्डियों के मालिश में भी बहुत ही उपयोगी माना जाता हैं। इस मसाज में प्रयोग होने वाले पत्थर कोई मामूली पत्थर नहीं होते हैं। डॉक्टर्स हमेशा इस थेरेपी में काले ज्वालामुखी चट्टानों का प्रयोग करते हैं। जो स्वाभाविक रूप से चिकने होते हैं। विशेषज्ञ हमेशा इस मसाज में चिकनी, सपाट, पत्थरों के उपयोग की सलाह देते हैं। ऐसे पत्थर अक्सर नदियों के तट पर पाएं जाते है।

क्या हैं इस मसाज के फायदे ?

हॉट मसाज थेरेपी डिप्रेशन, डिसऑर्डर आदि से मुक्ति देता है इससे दिमाग को भी राहत मिलती है। साथ ही ये अनेको बीमारियों और शारीरिक, मानसिक समस्याओं में भी लाभदायक है।

Depression ( तनाव )– आप सभी रोज की तनाव और कामों की चिंता से परेशान जरूर होते हैं, लेकिन सबसे बड़ी चिंता तब बन जाती जब आप इन परेशानियों और समस्याओं को नजरअंदाज करने लगते है। आपको बता दें, आज के समय में डिप्रेशन एक बहुत ही खतरनाक समस्या बन चुकी है। कई रिसर्च में यह पाया गया है कि बहुत सारे लोग ऐसे भी पाएं जाते हैं जो डिप्रेशन की वजह से आत्महत्या जैसे खतरनाक कदम उठा लेते हैं। ऐसे में अगर आप किसी मानसिक एवं शारीरिक तनाव से गुजर रहे हैं तो इस थेरेपी को जरूर अपनाएं। यह थेरेपी आपके शरीर के थकान को दूर कर आपको रिलैक्स करती है।

Muscles Stress (मांसपेशीय तनाव )-यह थेरेपी आपको आपके मांसपेशियों की समस्याओं से भी निजात दिलाएगी। यह रक्तसंचार नियंत्रित करने के साथ साथ आपकी मांसपेशियों के लिए बहुत ही आरामदायक भी होता है।

Well Sleep (बेहतर नींद)-अक्सर अगर आप बहुत चिंता एवं तनाव में रहते हैं तो सबसे पहले आपकी नींद इससे प्रभावित होती है, और यदि नींद पुरी ना हो तो हमारी दिनचर्या सही नहीं हो पा ती है। इसलिए अगर आप किसी भी परेशानी की वजह से सो नहीं पा रहें है अथवा आपकी नींद पूरी नहीं हो पा रही तो आप हॉट स्टोन थेरेपी करा सकते है। यह आपके लिए लाभदायक है।

Cancer(कैंसर)- कैंसर के दौरान होने वाले दर्दनाक थेरेपी की समस्या से भी यह मसाज आपको निजात दिलाता है। कैंसर के इलाज में होने वाले दर्द अक्सर असहनीय होते है इसलिए आप इस मसाज थेरपी का प्रयोग इन दर्दों से आराम पाने के लिए कर सकतें हैं। साथ ही यह कैंसर पीड़ितों को जल्दी ठीक होने में भी मदद करता है।

Blood Circulation (रक्तसंचार)-यह थेरेपी आपके शरीर में ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाती है, जिससे आपकी ऊर्जा और शक्ति भी बढ़ती है। साथ ही इस मसाज के दौरान शरीर में जमे हुए टॉक्सिन बाहर निकल जाते है और आपके शरीर के हर हिस्से में खून संचार बेहतर तरीके से होता है।

किनके लिए सही है हॉट स्टोन थेरेपी ?

कुछ ऐसे लोग होते हैं जिनको विशेषज्ञ हॉट स्टोन थेरेपी की सलाह नई देते हैं। इसलिए हमेशा अपने डॉक्टर के सलाह से ही थेरेपी करायें। खास कर डॉक्टर्स उन लोगों को इस थेरेपी के लिए सलाह नहीं देते जो हाई ब्लडप्रेशर ,डायबेटीज, माइग्रेन , गठिया , ट्यूमर जैसी बीमारियों से पीड़ित होते हैं। साथ ही अगर कोई महिला गर्भवती हो तो डॉक्टर्स इस थेरेपी की सलाह नहीं देते। इसलिए कभी भी अपने डॉक्टर्स की सलाह लेकर ही यह थेरेपी करायें।

11 May, 2019

About Author

[email protected]