अमेरिका के बाद अब भारत में इस बिमारी से ग्रस्त हो रहे लोग
सेहत

अमेरिका के बाद अब भारत में इस बिमारी से ग्रस्त हो रहे लोग

कोरोनरी आर्टरी की बीमारी (CAD) ह्रदय संबंधी बीमारी होती है जो नसों के द्वारा काम बंद कर देने से होती है। नसों द्वारा खून नहीं भेजने की वजह ह्रदय की ये बीमारी भी लगती है जिसे कोरोनरी हार्ट की बीमारी (CHD) भी कहते है। ये बीमारी इतनी खतरनाक है कि एक समय में अमेरिका के अंदर इस बीमारी से 16.5 मिलियन अमेरिकियों ग्रस्त हुए थे। यह बीमारी भी जानलेवा हो सकती है अगर इसका इलाज सही वक़्त से नहीं कराया जाता है। नसों के बंद हो जाने की वजह से अक्सर हार्ट अटैक की प्रॉब्लम हो जाती है।

source-google

कोरोनरी आर्टरी की बीमारी होने की वजह

कोरोनरी आर्टरी की बीमारी होने की सबसे बड़ी वजह हैकॉलेस्ट्रोल जो नसों में जम जाता है जिसकी वजह से आर्टरी अच्छे से खून का प्रवाह नहीं बना पाती जिसकी वजह से हार्ट में  खून पहुँच नहीं पाने की वजह से हार्ट अटैक होता है। आर्टरी में फसे कॉलेस्ट्रोल और वसा की वजह से खून के साथ साथ ऑक्सीजन सप्लाई होने की मात्रा भी कम हो जाती है जिसकी बड़ी से हार्ट काम करना धीरे धीरे कम हो जाता है और हार्ट अटैक आने की पुरी संभवना हो जाती हैं और वो जीवन को पुरी तरीके से खतरे में डाल देता है।  

source-google

कोरोनरी आर्टरी की बीमारी होने के लक्षण

कोरोनरी आर्टरी की बीमारी में खून और ऑक्सीजन की मात्रा काम हो जाने की वजह से छाती में दर्द उठने लगता है जो की एक दम से उठता है या तो सोते समय या फिर सोने से पहले।


कभी कभी ह्रदय में जलन को काफी लोग हल्के में लेते है लेकिन यह भी आर्टरी बंद हो जाने की वजह से होता है।


इस बीमारी में नसों के बंद हो जाने से सास लेने में दिक्कत आती है। जैसे सांस कम आना या फिर सास फुलना।


नसों के बंद हो जाने से खून का प्रवाह कम होने लगता है और इकठ्ठा होने की वजह से शरीर में सूजन आने लगती है।


 ह्रदय में खून का प्रवाह कम होने से बिना कुछ काम करें ही शरीर में थकान महसूस होते रहना।
पीठ, कमर, सर, कंधे और जबड़ो के तेज़ी से दर्द होना।


आर्टरी में खून का प्रवाह बंद हो जाने की वजह से घबराट होना और हर मौसम चाहे सर्दी हो या गर्मी भयंकर पसीना आना।

source-google

वैसे तो इस बीमारी का बचाव बस दवाइयों से होता है पर तनाव,धूम्रपान, उच्च कॉलेस्ट्रोल और मोटापे को नियंत्रण में रखने से इस बीमारी का काबू पाया जा सकता है।

10 September, 2019

About Author

Ashish 08