V. R. Krishna Iyer: इन्होंने Indira Gandhi को संसद से किया था बाहर
शख्सियत

V. R. Krishna Iyer: इन्होंने Indira Gandhi को संसद से किया था बाहर

पूरी दुनिया में ऐसा कोई देश नहीं जहां पर कानून व्यवस्था ना हो। हर देश में अपना कानून होता है और हर देश में कानून को चलाने के लिए न्यायधीश होते है। V. R. Krishna Iyer भी एक ऐसा नाम है जो कि कानून की दुनिया में मशहूर है। V. R. Krishna Iyer आज तक के सुप्रीम कोर्ट में जितने भी न्यायाधीश हुए उनमें सबसे महान जज थे। V. R. Krishna Iyer 15 नवम्बर 1915 – 4 दिसम्बर 2014 तक भारत के न्यायधीश(Judge) रहे थे।

Source-google

V. R. Krishna Iyer का जीवन परिचय

V. R. Krishna Iyer का जन्म 1915 में पलक्कड़ के वैद्यनाथपुरम गाँव में हुआ था, जो इस समय मद्रास राज्य के मालाबार क्षेत्र का हिस्सा था, उनके पिता भी एक वकील थे उनका नाम राम अय्यर था। उन्हें अपने पिता से विरासत में कानून का उपयोग करने के गुण विरासत में मिले। V. R. Krishna Iyer की शादी शारदा से सन 1925 में हुई थी। मद्रास से कानून का अध्ययन किया और अपने पिता के कमरे से ही 1938 में थालास्सेरी, मालाबार में अभ्यास शुरू किया। उन्हें 1952 में मद्रास विधान सभा के लिए चुना गया। उन्होंने कई श्रम और भूमि सुधार कानून पारित किए। वह 1965 का विधानसभा चुनाव हार गए, जिसे उन्होंने फिर से एक स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में लड़ा।

Source-google

V. R. Krishna Iyer का कानूनी सफर

1968 में केरल उच्च न्यायालय का न्यायाधीश नियुक्त किया गया था। वे 1971 से 1973 तक विधि आयोग(Law Commission) के सदस्य थे, जहाँ उन्होंने एक व्यापक रिपोर्ट का contract तैयार किया, जिससे देश को कानूनी सहायता प्राप्त हुई। 1973 में उन्हें भारत के सर्वोच्च न्यायालय(Supreme Court) के न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया था। जून 1975 में इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी(Indira Gandhi) को संसद से बाहर कर दिया और उन्हें छह साल के संसद में आने से रोक दिया।

Source-google

V. R. Krishna Iyer का सार्वजनिक जीवन

V. R. Krishna Iyer 14 नवंबर 1980 को एक जज के रूप से रिटायर हुए। लेकिन उसके बाद भी उन्होंने लोगो की मदद करना बंद नहीं किया। वे सड़को पर विरोध प्रदर्शन में भाग लेते थे और हर मंच पर अपने लेखन के माध्यम से भाग लेते रहे। उनसे जो भी मदद मांगता था उनके लिए वो हमेशा तैयार रहते थे। 1987 में Iyer ने Ruling कांग्रेस के उम्मीदवार आर वेंकटरमन के खिलाफ राष्ट्रपति उम्मीदवार के रूप में खड़े हुए, और जीत हासिल की। 2002 में गुजरात के दंगों में पैनल के हिस्से के रूप में पूछताछ की जिसमें V. R. Krishna Iyer और अन्य शामिल थे।

Source-google

V. R. Krishna Iyer की मृत्यु

V. R. Krishna Iyer ने 2009 में केरल लॉ रिफॉर्म कमीशन(Kerala Law Reform Commission) का नेतृत्व भी किया था। अपनी मृत्यु से लगभग कुछ सप्ताह पहले तक वे सभी कार्यों में एक्टिव थे लेकिन बढ़ती उम्र ने उनके स्वास्थ्य पर प्रभाव डाला। 4 दिसंबर 2014 को 99 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया। राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। अस्पताल के सूत्रों के अनुसार वे गुर्दे और दिल की बीमारी के साथ ही न्यूमोनिया से भी पीड़ित थे।

Source-google
14 November, 2019

About Author

Rachna