पूर्व राष्ट्रपति जाकिर हुसैन के भतीजे, जो पाकिस्तान के ब्लूचिस्तान में बने गवर्नर
शख्सियत

पूर्व राष्ट्रपति जाकिर हुसैन के भतीजे, जो पाकिस्तान के ब्लूचिस्तान में बने गवर्नर

शख्सियत डेस्क: Rahimuddin Khan Governer Balochistan, हिंद महासागर से लेकर सिंधु नदी के पार तक फैला वृहद भारत कभी दुनिया में सबसे अग्रणी था। हर क्षेत्र में अपनी अलग पहचान बनाने वाला हमारा देश भारत विभिन्न कठिनाईयों को पार करते हुए आज भी सबके लिए आदर्श बना हुआ है। यहां आज भी सभी धर्मों के लोग मिल-जुलकर बिना भेदभाव के एकसाथ रहते है। इस देश की मिट्टी में ऐसे अनेकों लोगों का जन्म हुआ जिन्होंने विश्व स्तर पर अपने देश को एक अलग पहचान दिलाई। और अपनी अनूठी कला से देश का नाम रोशन किया।

Rahimuddin Khan Birthday Special
source-google

रहिमुद्दीन खान का जीवन परिचय (Rahimuddin Khan Biography)

इसी कड़ी में आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनका जन्म तो भारत में हुआ था लेकिन वे 6 साल तक पाकिस्तान के ब्लूचिस्तान में गवर्नर के पद पर रहें। जो कि पाकिस्तान के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ कि कोई शख्स लगातार 6 साल तक ब्लूचिस्तान का गवर्नर रहा हो। बता दें कि ब्रिटिश अधिकृत भारत के किमगंज में आज ही के दिन जन्म लेने वाले इस शख्स का नाम रहिमुद्दीन खान है। जो कि सन् 1947में भारत और पाकिस्तान के बंटवारें में पाकिस्तान चले गए थे।

Rahimuddin Khan News Hindi
source-google

जहां उन्होंने आर्मी ऑफिसर के रुप में काम किया एवं रिटायरमेंट के बाद सन् 1978 में ब्लूचिस्तान के 7वें गवर्नर बनाएं गए। गवर्नर के पद पर इन्होंने 6 साल (1978-1984) तक काम किया। ब्लूचिस्तान में इनके द्वारा किए गए काम को आज भी याद किया जाता है। यह अपने कर्तव्य का निर्वहन पूरे दिल से करते थें और इस मामले में यह सबसे अव्वल थे। ब्लूचिस्तान से गवर्नर का पद छोड़ने के कुछ सालों बाद इन्हें सिंध प्रांत का गवर्नर नियुक्त किया गया।

Former Prime Minister
Former Prime Minister source-google

पूर्व राष्ट्रपति के भतीजे थे (Former Prime Minister Zakir Hussain Nephew)

सन् 1988 में उन्हें सिंध प्रांत का गवर्नर नियुक्त किया गया था। सन् यह भारत के पूर्व राष्ट्रपति जाकिर हुसैन के भतीजे़ थे। इनकी प्रारंभिक पढ़ाई दिल्ली यूनिवर्सिटी के ज़ामिया मिलिया इस्लामिया में पूरी हुई। भारत-पाकिस्तान के बंटवारे के समय उन्होंने पाकिस्तान जाना ही सही समझा। पाकिस्तानी मिलीट्री एकेडमी में जाने वाले यह पहले कैडेट थे। सन् 1953 में पंजाब में हुए डिस्टरबेंस के समय वह मिलीट्री में शामिल हो गए थे। बता दें कि इनका जीवन भी संघर्षो से भरा रहा लेकिन यह हमेशा अपने कर्तव्य के प्रति अटल रहें। अभी यह 94 वर्ष के उम्र में देश को अपनी सेवा देते आ रहे है।

Who is Rahimuddin Khan
Former Prime Minister source-google

newsup2date की तरफ से उन्हें जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं।

20 July, 2019

About Author

[email protected]