‘Happy Birthday K. S. Chandrasekharan’: भारतीय गणितीय सोसायटी के जर्नल संपादक!
शख्सियत

‘Happy Birthday K. S. Chandrasekharan’: भारतीय गणितीय सोसायटी के जर्नल संपादक!

K. S. Chandrasekharan’ एक ऐसे शख्स थे. जिन्होंने लोगों के सामने मैथ्स की इम्पोर्टेंस समझाई। ये ETH Zurich में एक प्रोफेसर और स्कूल ऑफ मैथमैटिक्स, टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च (टीआईएफआर) के संस्थापक थे। ये Number Theory and Summability के लिए जाने जाते हैं।

source-google

K. S. Chandrasekharan का प्रारंभिक जीवन और एजुकेशन

K. S. Chandrasekharan का जन्म 21 नवंबर 1920 को आधुनिक आंध्र प्रदेश के मछलीपट्टनम में हुआ था। चंद्रशेखर ने अपना हाई स्कूल आंध्र प्रदेश के गुंटूर के बापटला गाँव से पूरा किया। उन्होंने चेन्नई के प्रेसीडेंसी कॉलेज से गणित में M.A पूरा किया और गणित विभाग मद्रास विश्वविद्यालय से 1942 में पीएचडी पूरी की।

source-google

K. S. Chandrasekharan का करियर

चंद्रशेखर इंस्टीट्यूट फॉर एडवांस स्टडी, प्रिंसटन (Institute for Advanced Study, Princeton) यूएस के साथ थे। होमी भाभा ने चंद्रशेखर को टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च (TIFR) के गणित के स्कूल में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया। चंद्रशेखर ने दुनिया भर के गणितज्ञों जैसे कि L. Schwarz and C. L. Siegel को TIFR का दौरा करने के लिए राजी किया।

source-google

K. S. Chandrasekharan के काम

K. S. Chandrasekharan के कई यूनिवर्सिटी से अच्छे रिश्ते थे. जिनके साथ K. S. Chandrasekharan ने काम भी किया है।

  • with Salomon Bochner: Fourier Transforms. Princeton University Press.
  • with S. Minakshisundaram: Typical means. Oxford University Press.
  • Introduction to analytic number theory.
  • Arithmetical Functions. Grundlehren der Mathematischen Wissenschaften.
  • Elliptic Functions.
  • Classical Fourier transforms.
  • Course on topological groups.
source-google

K. S. Chandrasekharan के अवार्ड्स

चंद्रशेखर को उनकी काबिलियत को देखते हुए कई अवार्ड्स से भी सम्मानित किया गया है।

  • Padma Shri (1959)
  • Shanti Swarup Bhatnagar Award (1963)
  • Ramanujan Medal (1966)
source-google

K. S. Chandrasekharan के सफर का अंत

K. S. Chandrasekharan का निधन 13 अप्रैल 2017 को ज्यूरिक (Zurich) में हुआ था. इनके निधन के बाद देश में एक शौक की लहर छा गई थी।

source-google
21 November, 2019

About Author

Twinkle98