बीजेपी प्रत्याशी की गाड़ी से मिला लाखों रुपये का बैग, कहा- मुझे फंसाने के लिए पुलिस ने खुद रखे पैसे

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल से बीजेपी प्रत्याशी ने बंगाल पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए हैं। जानकारी के मुताबिक पुलिस ने पहले पश्चिमी मिदनापुर के पिंगला मुंडुमारी में नाका चेकिंग के दौरान घाटाल से बीजेपी प्रत्याशी और पूर्व आई पी एस ऑफिसर भारती घोष को पुलिस ने हिरासत में लिया। जिसके बाद उनकी कार में लाखों रुपये रख दिए और चेकिंग करने लगे।

यह भी पड़े: रोड शो के दौरान सनी देओल के ट्रक पर चढ़ी महिला, पहले लगाया गले… फिर गाल पर किया किसhttps://newsup2date.com/election/woman-sunny-deol-during-road-show/

बीजेपी प्रत्याशी ने पुलिस अधिकारी पर लगाए गंभीर आरोप

  • दरअसल, पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि भारती घोष अपनी गाड़ी में काफी सारे पैसे लेकर चल रही थीं, जिसके बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए भारती घोष की गाड़ी की तलाशी लेनी चाही।
  • जिला पुलिस अधिकारी ने बताया की भारती घोष ने अपनी गाड़ी तलाशी नहीं लेने दी और भागने की कोशिश की।
  • पुलिस अधिकारी ने बताया कि जब उन्होंने तलाशी नहीं लेने दी तो हमने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने बताया कि भारती घोष से जबरन तलाशी के दौरान 1 लाख 13 हजार रुपये बरामद हुए हैं।
  • वहीं, इस मामले में भारती घोष का कहना है कि पुलिस अधिकारियों ने ही उनकी गाड़ी में पैसों से भरा बैग रखा है। इस घटना के बाद पिंगला में ही तृणमूल कार्यकर्ताओं ने भारती घोष की गिरफ़्तारी की मांग की और सड़क पर जमकर हंगामा किया।

भारती घोष ने कहा- पुलिस ने खुद रखे थे मेरे बैग में रुपये

भारती घोष ने कहा कि पुलिस ने 3 बार मेरी गाडी को सर्च किया उसके बाद मेरे बैग में पैसे भर दिए और बैग को एक जगह रख दिया। उसके बाद अपने सीनियर ऑफिसर को बुलाया और फिर गाड़ी को दोबारा से सर्च करवाया गया। उन्होंने कहा कि पुलिस अधिकारी ने मेरे पास आकर कहा कि बैग में कुछ है, उसे निकाल दीजिए तो मैंने उनके सामाने सारा सामान निकालकर रख दिया। उन्होंने बताया कि उनके बैग में एक भगवान की मूर्ति और 50 हजार रुपये थे। भारती सिंह आरोप लगाया कि जो भी पैसे बरामद हुए वो पुलिस वालों ने रखे थे और बाद में वो उस बैग को लेकर चले गए।

TMC ने मतदाताओं को पैसे बांटने का लगायाआरोप

चुनाव आचार संहिता के दौरान इतनी रकम ले जाने के आरोप में पुलिस ने भारती घोष को तकरीबन तीन घंटे के लिए हिरासत में लेकर पूछताछ की। उन्हें आधी रात करीब 2.45 बजे छोड़ा गया। वहीं, तृणमूल कांग्रेस नेताओं ने आरोप लगाया है कि भारती घोष यह रकम मतदाताओं में बांटने के लिए ले जा रही थीं।