चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल के प्रधान सचिव को हटाया

नई दिल्ली: मंगलवार को पश्चिम बंगाल में हुई हिंसा को लेकर चुनाव आयोग सख्त हो गया है। हिंसा के 24 घंटों के भीतर चुनाव आयोग ने सख्त कदम उठाया है। पश्चिम बंगाल की 9 सीटों के लिए कल से चुनाव प्रचार पर रोक लगाई गई है। इतना ही नहीं चुनाव आयोग ने की पश्चिम बंगाल के प्रधान सचिव और गृह सचिव की छुट्टी कर दी है। इन सबके अलावा चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल की हिंसा के बाद सख्त कदम उठाते हुए सोशल मीडिया पर वीडियो डालने पर भी रोक लगा दी।

पर्यवेक्षक अधिकारियों की रिपोर्ट के बाद यह कार्रवाई की है। चुनाव आयोग ने कई बड़े अधिकारियों की छुट्टी की है। पश्चिम बंगाल के प्रधान सचिव को हटा दिया गया है। चुनाव आयोग ने बंगाल में प्रचार का वक्त घटाया है। 7वें चरण के लिए किसी भी तरह की रैली, रोड शो पर रोक लगा दी है। यह आदेश कल रात 10 बजे के बाद लागू होगा।

पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) के दौरान हिंसा को देखते हुए चुनाव आयोग ने आगामी 19 मई तक के लिए चुनाव प्रचार पर रोक लगा दी है। चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल की 9 लोकसभा सीटों पर सभी राजनीतिक दलों के चुनाव प्रचार पर रोक लगाई है। आपको बता दें, 19 मई को आखिरी चरण में पश्चिम बंगाल की 9 सीटों पर वोटिंग होगी।