AAP-कांग्रेस गठबंधन पर राहुल का ट्वीट, लिखा- 4 सीट देने को तैयार..लेकिन केजरीवाल ने लिया यू-टर्न

  • आप-कांग्रेस गठबंधन पर पहली बार बोले राहुल गांधी
  • ट्वीट कर कहा- दरवाजे अभी भी खुले हैं
  • हम 4 सीट देने को तैयार हैं, लेकिन केजरीवाल ने लिया यू-टर्न

नई दिल्ली: दिल्ली में आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के बीच गठबंधन को लेकर पहली बार कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का बयान सामने आया है। राहुल गांधी ने ट्वीट कर दिल्ली के सीएम केजरीवाल पर निशना साधा है।

राहुल गांधी ने ट्वीट कर क्या कहा ?

  • कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा है कि दिल्ली में आप-कांग्रेस का गठबंधन का मुख्य लक्ष्य बीजेपी को हराने के लिए था।
  • राहुल गांधी ने आगे कहा कि हम आम आदमी पार्टी को 4 सीट देने को तैयार थे, लेकिन अरविंद केजरीवाल ने एक बार फिर यू-टर्न ले लिया है।
  • राहुल गांधी ने आगे कहा कि आम आदमी पार्टी के लिए अभी भी दरवाजे खुले हैं

दिल्ली में गठबंधन को लेकर कई बार फंस चुका है पेंच

आपको बता दें, दिल्ली में आम आदमी पार्टी औऱ कांग्रेस के बीच गठबंधन को लेकर कभी समय से माथापच्ची चल रही है। पहले ये खबर थी कि आम आदमी पार्टी दिल्ली में एक सीट कांग्रेस को देने को तैयार है। लेकिन कांग्रेस ने साफ मना कर दिया है। कई बार खुद केजरीवाल का बयान सामने आया था कि हम तो तैयार है लेकिन कांग्रेस की ओर से ही कुछ नहीं कहा जा रहा है। इसके बाद यह खबर थी कि कांग्रेस दिल्ली में कम से कम 3 सीटें मांग रही है।

केजरीवाल की शर्त कांग्रेस को नहीं थी मंजूर

आम आदमी पार्टी इस ऑफर पर यह कहकर तैयार हो गई थी कि इसके बाद कांग्रेस को हरियाणा और चंडीगढ़ में भी आम आदमी पार्टी से गठबंधन करना होगा। यह बात कांग्रेस को स्वीकार नहीं थी। इससे पहले आज आम आदमी पार्टी के अध्यक्ष अरविंद केजरीवाल नें गठबंधन पर कुछ नर्मी दिखाते हुए कहा था कि वे अमित शाह और नरेन्द्र मोदी की जोड़ी को हराने के लिए कुछ भी कर सकते हैं।

शीला दीक्षित कई बार कर चुकीं हैं गठबंधन को लेकर विरोध

दिल्ली में कांग्रेस और आप के गठबंधन को सबसे पहले शीला दीक्षित नें अस्वीकार किया था। शीला दीक्षित नें कहा था कि आम आदमी पार्टी इतनी बड़ी शक्ति नहीं है और कांग्रेस अकेले दम पर चुनाव लड़ सकती है। इसके बाद हालाँकि पी सी चाको जैसे अन्य कांग्रेस के नेताओं नें शीर्ष नेताओं पर दबाव बनाया कि वे आम आदमी पार्टी से गठबंधन करें। अजय माकन नें तो यह तक कह दिया था कि यदि दिल्ली में कांग्रेस और आप के बीच गठबंधन नहीं होता है तो वे चुनाव नहीं लड़ेंगे।