दिल्ली सरकार का बड़ा दांव, मेट्रो-बसों में फ्री सफर कर पाएंगी महिलाएं
दिल्ली-एनसीआर

दिल्ली सरकार का बड़ा दांव, मेट्रो-बसों में फ्री सफर कर पाएंगी महिलाएं

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद आम आदमी पार्टी ने दिल्ली में अपनी जमीन को बचाए रखने के लिए भरपूर कोशिश शुरू कर दी है। इसका उदहारण दिल्ली के मुखिया केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस से लगा सकते हैं। अरविंद केजरीवाल ने बड़ा दांव खेलते हुए दिल्ली में महिलाओं को खुश करने का सबसे बड़ा फैसला किया है।

मेट्रो और बस में फ्री में सफर कर पायेंगी महिलाएं

अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली में डीटीसी, क्लस्टर बस और मेट्रो में महिलाओं के लिए फ्री में सफर का ऐलान कर दिया है। इसके पीछे की वजह केजरीवाल ने महिला की सुरक्षा बताया है। इसके अलावा सरकार का मानना है कि ज्यादा किराए की वजह से महिलाएं सफर नहीं कर पाती थी, लेकिन अब बिना सोचे वो सफर कर पाएंगी। केजरीवाल ने बताया कि ये नियम अगले 2 से 3 महीने में लागू हो जाएगा।

प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अरविंद केजरीवाल ने क्या कहा

  • अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि अगले दो से तीन महीने में ये योजना लागू होगी। इस योजना का पूरा खर्च दिल्ली की सरकार उठाएगी। इसके अलावा केजरीवाल ने एक और ऐलान करते हुए कहा कि दिल्ली में लगभग 70 हज़ार जगहों को चिन्हित करने का काम पूरा कर लिया गया है।
  • इन जगहों पर 8 जून से CCTV कैमरे लगने शुरू हो जाएंगे, अन्य जगहों को भी चिन्हित कर जल्द ही CCTV कैमरे लगने का काम पूरा कराया जाएगा। मैंने अधिकारियों को डीटीसी और मेट्रो दोनों के लिए एक विस्तृत प्रस्ताव बनाने के लिए एक हफ्ते का समय दिया है कि यह कैसे और कब लागू किया जा सकता है।
  • हम 2-3 महीने के भीतर इसे शुरू करने का प्रयास कर रहे हैं। हम कार्यान्वयन के संबंध में लोगों से सुझाव भी मांग रहे हैं। इस योजना से सम्बंधित सुझाव इस email id: [email protected] पर दिए जा सकते हैं।

केजरीवाल ने आगे कहा कि शुरू में हमने केंद्र को टिकटों की कीमतों में वृद्धि नहीं करने के लिए कहा था, वे सहमत नहीं थे। हमने उन्हें बताया कि हमारी 50-50 की साझेदारी है, चलिए बढ़ी हुई कीमतों पर 50-50 की सब्सिडी देते हैं, वे सहमत नहीं थे। फिलहाल हम जो कदम उठाने जा रहे हैं उसका खर्च दिल्ली सरकार उठाने जा रही है। हमें इसके लिए मंजूरी लेने की आवश्यकता नहीं है।

गौरतलब है कि दिल्ली में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में केजरीवाल सरकार का ये फैसला विपक्षी पार्टियों के लिए सिरदर्द बना हुआ है। हालांकि इस फैसले में पूरी तरह विश्वास भी नहीं किया जा सकता है क्योंकि दिल्ली मेट्रो पहले ही घाटे में चल रही है। ऐसे में दिल्ली सरकार के खजाने से सिर्फ मेट्रो में इतनी बड़ी रकम जाएगी तो बाकी के काम के लिए पैसा कहां से आएगा।

3 June, 2019

About Author

[email protected]