कहानी-कविताएं

महामृत्युंजय मंत्र के पीछे की कहानी, जानिए इसके पीछे का पूरा सच
कहानी-कविताएं, श्रद्धा के भाव

महामृत्युंजय मंत्र के पीछे की कहानी, जानिए इसके पीछे का पूरा सच

पौराणिक काल में शिव भगवान के अनन्य भक्त मृकण्ड ऋषि को कोई भी संतान नहीं थी। जिसके कारण वे और उनकी पत्नी विधाता के इस फैसले से परेशान रहा करते थे। मृकण्ड शिव भगवान के भक्त थे उन्होंने सोच कि भगवान शिव संसार के कष्टहरता हैं। तो वे ही इस समस्या का समाधान कर सकते…

फैज़ अहमद फैज़ की शायरी जो पढ़ कर आप हो जायेंगे कायल
कहानी-कविताएं

फैज़ अहमद फैज़ की शायरी जो पढ़ कर आप हो जायेंगे कायल

क्या आपने कभी हथियार उठाने वाले सैनिक को कलम की कमान सँभालते देखा है ?क्या कभी एक सिपाही को शांति पुरस्कार से सम्मानित होते सुना है ?आप सोंच रहे होंगे की एक सैनिक़ जिसे वीरता पुरस्कार मिलना चाहिए उसे शांति पुरस्कार क्यों ? अगर आप ऐसा सोंच रहें हैं तो आप गलत हैं,जी हाँ आज…

अंतर्राष्ट्रीय महिला हिंसा उन्मूलन दिवस: महिला हिंसा के ये आंकडे देख आपका सिर शर्म से झुक जाएगा
कहानी-कविताएं, देश

अंतर्राष्ट्रीय महिला हिंसा उन्मूलन दिवस: महिला हिंसा के ये आंकडे देख आपका सिर शर्म से झुक जाएगा

नई दिल्ली। आधी आबादी यानी महिलाएं… हमारे समाज का अभिन्न हिस्सा, जिनके बिना जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती। फिर भी उनपर हर दिन न जाने कितने अत्याचार होते हैं, इसका अंदाजा भी नहीं लगाया जा सकता है। महिलाओं के प्रति हिंसा खत्म करने के लिए पूरी दुनिया में आज अंतर्राष्ट्रीय महिला हिंसा…

55 साल बाद भी अनसुलझी है दुनिया की सबसे बड़ी मर्डर मिस्ट्री, जॉन कैनेडी को मारी थी सड़क पर गोली
कहानी-कविताएं, विदेश

55 साल बाद भी अनसुलझी है दुनिया की सबसे बड़ी मर्डर मिस्ट्री, जॉन कैनेडी को मारी थी सड़क पर गोली

नई दिल्ली। अमेरिका के 35वें और सबसे लोकप्रिय राष्ट्रपति जॉन एफ. कैनेडी की आज 55वीं बरसी है। 22 नवंबर का दिन दुनिया के इतिहास में उस वक्त काले अक्षरों से लिख दिया गया, जब दुनिया के सबसे ताकतवर राष्ट्रपति की खुलेआम गोलियां मारकर हत्या कर दी गई थी। दुनिया की सबसे बड़ी मर्डर मिस्ट्री पर…

विश्व टेलीविजन दिवस: दिलचस्प है टीवी का इतिहास, ऐसा रहा ब्लैक एंड व्हाइट से स्मार्ट टीवी का सफर
कहानी-कविताएं

विश्व टेलीविजन दिवस: दिलचस्प है टीवी का इतिहास, ऐसा रहा ब्लैक एंड व्हाइट से स्मार्ट टीवी का सफर

नई दिल्ली। टेलीविजन आज हमारी लाइफ का एक अहम हिस्सा बन चुका है। मनोरंजन का सबसे बेहतरीन साधन बन चुके टीवी की अहमियत को साल 1996 में वैश्विक रूप में उस वक्त पहचान मिली जब संयुक्त राष्ट्र ने विश्व टेलीविजन दिवस की घोषणा की। साल 1996 में संयुक्त राष्ट्र ने टेलीविजन के प्रभाव को आम…

अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस : सम्मान तलाशते पुरुष समाज की अहमियत समझाता दिन
कहानी-कविताएं

अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस : सम्मान तलाशते पुरुष समाज की अहमियत समझाता दिन

नई दिल्ली। महिला दिवस के दिन आपने अक्सर मजाक के मूड में पुरुषों को ये कहते आपने जरूर सुना होगा, ‘अरे भई! महिला दिवस तो ठीक है, पर पुरुषों का दिन कब आएगा? तो लीजिए… आ गया पुरुष दिवस। भाई साहब, चौंकिए नहीं… 19 नवंबर यानि आज अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस ही है। यकीन न हो…

विश्व शौचालय दिवस: सुरक्षा, स्वास्थ्य और मान सम्मान का प्रतीक, ये है भारत की मौजूदा स्थिति
कहानी-कविताएं

विश्व शौचालय दिवस: सुरक्षा, स्वास्थ्य और मान सम्मान का प्रतीक, ये है भारत की मौजूदा स्थिति

नई दिल्ली। विश्व शौचालय दिवस यानि स्वच्छता… मान-सम्मान और महिलाओं की सुरक्षा का प्रतीक। आज विश्व शौचालय दिवस है। हर साल 19 नवंबर को दुनिया के सभी देशों में विश्व शौचालय दिवस मनाया जाता है। किसी भी देश की अर्थव्यवस्था वहां के जनमानुष पर ज्यादा निर्भर करती है। लेकिन, अगर मनुष्य ही स्वस्थ्य न रहे…

अंतरराष्ट्रीय छात्र दिवस: इतिहास का वो काला दिन जब नाजियों ने हजारों छात्रों पर चलाई थी गोलियां
कहानी-कविताएं

अंतरराष्ट्रीय छात्र दिवस: इतिहास का वो काला दिन जब नाजियों ने हजारों छात्रों पर चलाई थी गोलियां

नई दिल्ली। देश का भविष्य तय करने के लिए शिक्षक एक राष्ट्र निर्माता की भूमिका निभाता है। शिक्षक छात्रों को किसी पत्थर की तरह तराश कर मूर्ति का रूप देता है, जो देश का भविष्य तय करता है। लेकिन, कभी सोचा है कि छात्रों पर जो जुल्म हुए हैं, उसका क्या? छात्रों के अधिकारों पर…

ऐ इंसान आखिर तू क्यों है परेशान ? गलतियां भी खुद करता है, लेकिन…
कहानी-कविताएं

ऐ इंसान आखिर तू क्यों है परेशान ? गलतियां भी खुद करता है, लेकिन…

ज़िंदगी गुलज़ार है ऐ इंसान तू क्यों है परेशान ? गलतियां खुद ही करता है, जानकर भी अंजान बनता है, लेकिन फिर भी उन सबका इल्जाम लेने, खड़े हैं 33 मिलियन भगवान, ऐ इंसान तू क्यों है परेशान ? जब राह पर मुसीबत होती है, तब बिल्ली रास्ता काट लेती है, और मुश्किलों के आने…

भारत के नक्शे पर 1 नवंबर को हुआ था केरल, मध्यप्रदेश समेत इन 5 राज्यों का जन्म, दिलचस्प है इनका इतिहास
कहानी-कविताएं

भारत के नक्शे पर 1 नवंबर को हुआ था केरल, मध्यप्रदेश समेत इन 5 राज्यों का जन्म, दिलचस्प है इनका इतिहास

नई दिल्ली। नवंबर महीने का आज पहला दिन है और देश के पांच राज्य अपना स्थापना दिवस मना रहे हैं। भारत के नक्शे पर केरल, मध्य प्रदेश, कर्नाटक, हरियाणा और छत्तीसगढ़ के विभाजन की लकीरें 1 नवंबर को ही खिंची थीं। इन पांचों राज्यों के स्थापना दिवस पर कई कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं।…

1 2