धीरूभाई अंबानी का सपना पूरा करेंगे मुकेश अंबानी, बसाएंगे 5 लाख लोगों के लिए शहर… सस्ते मिलेंगे मकान

नई दिल्ली। धीरूभाई अंबानी के एक और सपने को उनके बड़े बेटे मुकेश अंबानी पूरा करने जा रहे हैं। जियो की सफलता के बाद अब मुकेश अंबानी मुंबई के पास एक विश्वस्तरीय मेगासिटी तैयार करने जा रहे हैं। नई मेगासिटी के लिए ब्लूप्रिंट लगभग तैयार हो चुका है।

बिजनेस स्टैंडर्ड की एक रिपोर्ट के मुताबिक, रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने मुंबई के पास एक विश्वस्तरीय मेगासिटी तैयार करने की योजना बनाई है। अंबानी की यह मेगासिटी सिंगापुर की तर्ज पर तैयार की जाएगी। यहां एयरपोर्ट, बंदरगाह और सी लिंक कनेक्टिविटी भी होगी। रिपोर्ट के मुताबिक, इस शहर में 5 लाख से ज्यादा लोगों के रहने और हजारों कंपनियों को कामकाज की व्यवस्था होगी।

धीरूभाई अंबानी ने देखा था सपना

रिलायंस ग्रुप के संस्थापक धीरुभाई अंबानी ने 80 के दशक में ऐसा ही एक प्रोजेक्ट शुरू करने का सपना देखा था। वह चाहते थे कि नवी मुंबई में एक विश्वस्तरीय शहर बसाया जाए। हालांकि, धीरूभाई अंबानी के जीवित रहते हुए यह सपना पूरा नहीं हो पाया।

इसे भी पढ़ें : लंदन कोर्ट से भगोड़े कारोबारी विजय माल्या को बड़ा झटका, प्रत्यर्पण के खिलाफ दी गई अर्जी खारिज

क्या कहते हैं जानकार

  • रियल एस्टेट इंडस्ट्री से जुड़े जानकारों का कहना है कि मुकेश अंबानी की यह महत्वकांक्षी परियोजना बड़े स्तर पर लांच हो सकती है। उनका मानना है कि रियल एस्टेट के क्षेत्र पर इस प्रॉजेक्ट का वही असर हो सकता है, जैसा दूरसंचार क्षेत्र पर जियो की वजह से हुआ।
  • बिजनेस स्टैंडर्ड ने अपनी रिपोर्ट में रियल एस्टेट के एक शीर्ष विश्लेषक का हवाला देते हुए कहा है कि इस शहर के अस्तित्व में आने के बाद मुंबई की तस्वीर पूरी तरह बदल सकती है। नया शहर रिवर्स माइग्रेशन का कारण बन सकता है, क्योंकि इसकी कीमतें मुंबई के रियल एस्टेट कंपनियों द्वारा बेचे जा रहे मकानों की तुलना में काफी कम होगी।

इसे भी पढ़ें : 13 साल बाद नए लुक और फीचर्स के साथ वापस आ रहा फेवरेट स्कूटर बजाज चेतक, ये होगी खासियत

क्या होगा अंबानी के विश्वस्तरीय शहर में खास

  1. रिपोर्ट के अनुसार, इस प्रोजेक्ट की सबसे बड़ी खास बात यह होगी कि रिलायंस खुद यहां के प्रशासन को भी नियंत्रित करेगी।
  2. अंबानी की कंपनी को इसके लिए ‘स्पेशल प्लानिंग अथॉरिटी’ का लाइसेंस मिल चुका है, जिसके चलते कंपनी इस शहर के प्रशासन पर नियंत्रण रख सकेगी।
  3. इस लाइसेंस से अंबानी को न सिर्फ बेहद कम लालफीताशाही का सामना करना पड़ेगा, बल्कि शहर को डिवेलप करने की लागत भी कम होगी।
  4. इस पूरे प्रोजेक्ट की अनुमानित लागत 75 अरब डॉलर आंकी जा रही है।