प्रज्ञा ठाकुर की मांफी पर क्या बोले लोकसभा स्पीकर ओम बिरला
देश, ब्रेकिंग, राजनीति

प्रज्ञा ठाकुर की मांफी पर क्या बोले लोकसभा स्पीकर ओम बिरला

बुधवार का दिन, संसद के लोकसभा में शीतकालीन सत्र चल रहा था, बीजेपी की नेता प्रज्ञा ठाकुर (BJP, Pragya Thakur) बोल रही थीं, और बोलते बोलते उन्होंने देश के बापू यानी के महात्मा गांधी के हत्यारे नथुराम गोडसे (Nathuram Godse) को देशभक्त बताया दिया, जिसके बाद संसद में हंगामा देखने को मिला। और ये हंगामा न सिर्फ बुधवार बल्कि आज भी देखने को मिला है। कांग्रेस के सांसदों से आज प्रज्ञा ठाकुर के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। लेकिन आज प्रज्ञा ठाकुर में सदन में सभी से मांफी भी मांगी।

Source-LSTV

प्रज्ञा ठाकुर ने मांगी माफी

इतने ड्रामे के बाद आज जब BJP सांसद प्रज्ञा ठाकुर (BJP, Pragya Thakur) को लोकसभा में बोलने का मौका दिया गया तो प्रज्ञा ठाकुर ने कहा कि “मैने सदन में मेरे द्वारा की गई किसी भी टिप्पणी से किसी भी प्रकार से किसी को कोई ठेस पहुंची हो, तो उसके लिए मैं खेद प्रकट कर क्षमा चाहती हूं।” इसी बीच कांग्रेस ने सदन में ‘ महात्मा गांधी की जय, डाउन-डाउन गोडसे’ के नारे भी लाए।

Source-ani

क्या कहा ओम बिरला ने

BJP सांसद प्रज्ञा ठाकुर की मांफी के बाद लोकसभा स्पीकर ओम बिरला (Lok Sabha Speaker Om Birla) ने कहा कि “न केवल यह राष्ट्र बल्कि दुनिया महात्मा गांधी के सिद्धांतों का पालन करती है। हमें इस मुद्दे का राजनीतिकरण नहीं करना चाहिए। यदि हम करते हैं, तो यह दुनिया के सामने होगा। इसलिए मैंने कहा कि टिप्पणी दर्ज नहीं की जाएगी।” साथ ही उन्होंने आगे कहा कि “यह सदन महात्मा गांधी की हत्या के मामले पर गौर करने की अनुमति नहीं देता है, चाहे वो इस सदन में हो या बाहर हो। कल रक्षा मंत्री ने सरकार की ओर से स्पष्टीकरण दिया था। सांसद (प्रज्ञा सिंह ठाकुर) ने भी माफी मांगी है।”

Source-ani

युवा कांग्रेस ने किया अनोखा प्रदर्शन

बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर (BJP, Pragya Thakur) द्वारा कथित तौर पर सदन में महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताने पर हर तरह हंगामा मचा हुआ है। ऐसे में आज संसद के बाहार युवा कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने एक अनोखा प्रदर्शन किया। जिसमें उन्होंने महात्मा गांधी जी का रुप लेकर यानी के कपड़े, लाठी, चश्मा पहनकर प्रज्ञा ठाकुर के खिलाफ विरोध जताया।

Source-ani
29 November, 2019

About Author

Ashish Jain