हत्या केस में रामपाल को उम्रकैद की सजा, कोर्ट ने कहा- जब तक जिंदा रहेगा.. तब तक मरता रहेगा
ब्रेकिंग

हत्या केस में रामपाल को उम्रकैद की सजा, कोर्ट ने कहा- जब तक जिंदा रहेगा.. तब तक मरता रहेगा

नई दिल्ली: अब जब तक जिएगा.. मरता रहेगा.. जी हां हत्या के दो मामलों में दोषी करार दिए गए रामपाल को हरियाणा के हिसार की कोर्ट ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। मंगलवार को कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए रामपाल को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है।

बता दें रामपाल को 4 महिलाओं और एक बच्चे की हत्या के आरोप में दोषी पाया गया था, बीते 11 अक्टूबर को ही उसे दोषी करार दिया गया था। हिसार की एक विशेष अदालत ने रामपाल समेत कुल उसके 26 अनुयायियों को दोषी करार दिया था। सजा के ऐलान को देखते हुए जेल के आसपास की सुरक्षा बढ़ा दी गई थी। आजीवन कारावास के अलावा रामपाल पर एक लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है।

इन मामलों में हुआ सजा का ऐलान?

जिन मामलों में रामपाल को सजा सुनाई गई है, उनमें पहला केस महिला भक्त की संदिग्ध मौत का है, जिसकी लाश उनके हिसार स्थित सतलोक आश्रम से 18 नवंबर 2014 को बरामद की गई थी। जबकि दूसरा मामला उस हिंसा से जुड़ा है जिसमें रामपाल के भक्त पुलिस के साथ भिड़ गये थे। इस दौरान करीब 10 दिन चली हिंसा में 4 महिलाएं और 1 बच्चे की मौत हो गई थी। 67 साल का रामपाल और उसके अनुयायी नवम्बर, 2014 में गिरफ्तारी के बाद से जेल में बंद थे। रामपाल और उसके अनुयायियों के खिलाफ बरवाला पुलिस थाने में 19 नवम्बर, 2014 को दो मामले दर्ज किये गये थे।

फैसले से पहले सुरक्षा के मद्देनजर हरियाणा के हिसार शहर को किले में तब्दील कर दिया गया था। किसी भी संभावित बवाल, हिंसा और तोड़फोड़ जैसी घटनाओं से निपटने के लिए पुलिस ने सुरक्षा के अभूतपूर्व इंतजाम किए थे। हिसार जिले में धारा-144 लागू कर दी गई थी।

रामपाल की गिरफ्तारी पर आया था 50 करोड़ का खर्च

रामपाल को गिरफ्तार करने में हरियाणा पुलिस के पसीने छूट गए थे। 18 दिन की लुकाछिपी के बाद पुलिस ने रामपाल को गिरफ्तार कर लिया था। लेकिन इस पूरे ऑपरेशन पर राज्य पुलिस का 50 करोड़ रुपये से ज्याद का खर्च हुआ था। इस दौरान 6 लोगों की जान गई थी। 250 से ज्यादा लोग ज़ख्मी हो गए थे। कई पुलिसवालों को गंभीर चोटें भी आईं थी।

16 October, 2018

About Author

[email protected]