Xi Jinping departs: चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग हुए रवाना
देश, ब्रेकिंग

Xi Jinping departs: चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग हुए रवाना

दो दिनों में फैले कई सत्रों में चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग(Chinese President Xi Jinping) के साथ एक-के-बाद-साढ़े पांच घंटे की बातचीत के बाद प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि शनिवार से भारत-चीन संबंधों में सहयोग का एक नया युग शुरू होगा। जो कि “चेन्नई कनेक्ट” के माध्यम से शुरू हुआ है। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग भारतीय प्रधानमंत्री के साथ वार्ता करने के बाद ताज फिसरमेन कोव से चले गए हैं। वह दोपहर लगभग 2.00 बजे नेपाल के लिए रवाना (Chinese President Xi Jinping departs) होंगे।

source-ani

पीएम मोदी ने दिया रेशम की शॉल

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Chinese President Xi Jinping) तमिलनाडु के कोवलम में ताज मछुआरे के कोव होटल में कलाकृतियों और हथकरघा पर एक प्रदर्शनी में थे।

source-ani

भारतीय प्रधान मंत्री ने चीन के राष्ट्रपति को अपने चित्र के साथ हथकरघा साड़ी उपहार में दी। जबकि शी जिनपिंग ने मोदी को एक बोन चाइना प्लेट दी, जिस पर उनके चित्र चित्रित थे। पीएम मोदी ने राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping departs) के हाथ से बुने रेशम के चित्र को दिया।

यह भी पढ़े: अमित शाह ने कहा ‘आरटीआई के उपयोग को कम करने के लिए प्रतिबद्ध’

source-ani

विदेशी सेक्युलर विजय गोखले ने कहा

विदेशी सेक्युलर विजय गोखले ने कहा कि ‘दोनों नेताओं के बीच आज लगभग 90 मिनट तक बातचीत हुई, इसके बाद प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता हुई और फिर दोपहर के भोजन की मेजबानी पीएम मोदी ने की। इस शिखर बैठक के दौरान दोनों नेताओं के बीच एक से एक घंटे की कुल 6 बैठकें हुईं।’

source-ani

प्रधान मंत्री मोदी ने कहा मतभेदों को प्रबंधित करेंगे

पीएम मोदी ने कहा कि ‘हमने तय किया था कि हम अपने मतभेदों को विवेकपूर्ण तरीके से प्रबंधित करेंगे और उन्हें विवादों में नहीं बदलने देंगे। हम अपनी चिंताओं के बारे में संवेदनशील रहेंगे और हमारा संबंध विश्व में शांति और स्थिरता के लिए योगदान देगा।’

source-ani

2000 वर्षों के दौरान वैश्विक आर्थिक शक्तियां

अनौपचारिक शिखर सम्मेलन के दूसरे और अंतिम दिन, कोवलम में बंगाल की खाड़ी की ओर देखने वाले एक लक्जरी रिसॉर्ट में शी के साथ अपने प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता में मोदी ने कहा कि ‘भारत और चीन पिछले 2000 वर्षों के दौरान वैश्विक आर्थिक शक्तियां थे और वापस लौट रहे हैं। धीरे-धीरे मंच वुहान भावना ने हमारे संबंधों को एक नई गति और विश्वास दिया था।’

aource-google
12 October, 2019

About Author

Ashish Jain