अयोध्या मामला: क्या है मुस्लिम पक्ष का कहना
देश, ब्रेकिंग

अयोध्या मामला: क्या है मुस्लिम पक्ष का कहना

70 सालों से चल रहे अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट ने आज अपना फैसला दे दिया है। कोर्ट ने ये फैसला हिंदूओं के पक्ष में दिया है। यानी के राम जन्मभूमि पर अब रामलला का ही हक़ है। जिसके बाद ये तो साफ है कि अब राम मंदिर का निर्माण होगा लेकिन कैसे और कब ? तो बता दें कि कोर्ट ने केंद्र सरकार को आदेश दिया है कि वो अगले तीन महीने में एक स्कीम और ट्रस्ट बनाएं, जो रामलला को उनके घर यानी के मंदिर निर्माण और देखरेख कर सके।

Source-google

सुप्रीम कोर्ट के फैसले से न खुश- ओवैसी

हिंदुओ के पक्ष में आया सुप्रीम कोर्ट के फैसले से कुछ लोग खुश हैं तो कुछ न खुश हैं, ऐसे में ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लमिन (AIMIM) ने कहा कि “मैं फैसले से संतुष्ट नहीं हूं। सुप्रीम कोर्ट वास्तव में सर्वोच्च है लेकिन अचूक नहीं है। हमें संविधान पर पूरा भरोसा है, हम अपने हक के लिए लड़ रहे थे, हमें दान के रूप में 5 एकड़ जमीन की जरूरत नहीं है। हमें इस 5 एकड़ भूमि के प्रस्ताव को अस्वीकार करना चाहिए, हमें संरक्षण नहीं देना चाहिए।”

Source-ani

67 एकड़ जमीन ले लेने के बाद केवल पांच एकड़

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के कमाल फारुकी ने कोर्ट के पांच एकड़ जमीन पर नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा कि इसके बदले हमें 100 एकड़ ज़मीन भी दें तो भी उनका कोई फायदा नहीं होगा। हमारी 67 एकड़ ज़मीन को पहले से ही अधिकृत किया हुआ है तो हमको दान में क्या दे रहे हो? हमारी 67 एकड़ ज़मीन लेने के बाद 5 एकड़ दे रहे हैं, ये कहां का इंसाफ है ?

Source-ani

कोर्ट के फैसले से मुस्लिम पक्ष है न खुश

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के वकील जफरयाब जिलानी ने कहा कि ” फैसले का सम्मान करते हैं, लेकिन फैसले से न खुश हैं। उस पर कहीं भी किसी प्रकार का कोई प्रदर्शन नहीं होना चाहिए।”

Source-ani

मुस्लिम पक्ष करेगा यमीक्षा याचिका दायर

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के वकील जफरयाब जिलानी ने आगे कहा कि “अगर हमारी समिति इस पर सहमत होती है, तो हम एक समीक्षा याचिका दायर करेंगे। यह हमारा अधिकार है और यह सर्वोच्च न्यायालय के नियमों में भी है।”

Source-ani
9 November, 2019

About Author

Ashish Jain