इस मशहूर एक्ट्रेस का खुलासा, शूट के दौरान कमरे में पहुंच गए थे प्रकाश झा
बॉलीवुड

इस मशहूर एक्ट्रेस का खुलासा, शूट के दौरान कमरे में पहुंच गए थे प्रकाश झा

नई दिल्ली: #MeToo…. एक किस्म का हिम्मत देने वाला शब्द जो लोगों को उनके साथ हुई गलत घटनाओं को लोगों के सामने रखने में मदद करता रहा है। एक दौर था जब मीटू मूवमेंट के जरिए एक के बाद एक कई बड़े खुलासे हुए। किसी ने छेड़छाड़ तो किसी ने यौन उत्पीड़न जैसे गंभीर आरोप लगाए। ना सिर्फ बॉलीवुड..बल्कि राजनीति के धुरंधर भी इस मीटू शिकार हुए थे, जिनमें पूर्व केंद्रीय मंत्री एम जे अकबर का भी नाम शामिल था।

फिल्म जगत से जुड़ी कई दिग्गज अभिनेत्रियों और मॉडल्स ने काम के दौरान अपना साथ हुए गलत बर्ताव को लेकर अपनी चुप्पी तोड़ी। अब एक बार फिर उस दौर की शुरूआत होती दिख रही है। एक बार फिर एक मशहूर एक्ट्रेस ने फिल्म के सेट पर अपने साथ हुए एक ‘असहज अनुभव’ का खुलासा किया है।

फिल्म ‘लिपस्टिक अंडर माय बुर्का’ से सुर्खियों में आई बॉलीवुड एक्ट्रेस अहाना कुमरा ने एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू के दौरान 2016 में आई इस फिल्म के सेट पर दिग्गज फिल्म निर्माता और निर्देशक प्रकाश झा (Prakash Jha) को लेकर एक घटना के बारे में बड़ा खुलासा किया है। इंटरव्यू में अहाना ने बताया कि मुझे याद है कि फिल्म की शूटिंग के दौरान एक बोल्ड सीन फिल्माया जा रहा था तभी प्रकाश झा वहां पहुंच गए। इसके बाद उन्होंने एक कमेंट पास किया, जिसे उनके मुंह से सुनना मेरे लिए काफी असहज करने वाला था।

अहाना ने आगे बताया कि इसके बाद मैं फिल्म की डायरेक्टर अलंकृता श्रीवास्तव के पास गई और उनसे कहा कि वो (प्रकाश झा) मेरे डायरेक्टर नहीं हैं फिर वो फिल्म के सेट पर क्यों हैं और मुझे उनका वो कमेंट क्यों सुनना पड़ रहा है? वो फिल्म के निर्माता हैं, जिसके लिए उनका पूरा सम्मान है, लेकिन उन्हें यहां सेट नहीं होना चाहिए था। अहाना की बात सुनने के बाद फिल्म डायरेक्टर अलंकृता श्रीवास्तव ने बहुत आराम से प्रकाश झा को वहां से जाने के लिए कहा और वो चले गए।

आपको बता दें कि फिल्म ‘लिपस्टिक अंडर माय बुर्का’ में अहाना कुमरा के अलावा रत्ना पाठक शाह, कोंकणा सेन शर्मा और प्लाबिता बोरठाकुर ने काम किया था। यह फिल्म अपने सब्जेक्ट को लेकर काफी सुर्खियों में रही थी। फिल्म ‘लिपस्टिक अंडर माय बुर्का’ भोपाल में रहने वाली चार महिलाओं (किशोर उम्र की एक लड़की से लेकर 55 साल की विधवा तक) की यौन जागृति पर आधारित थी। ये चारों महिलाएं पुरुषवादी समाज की बंदिशो को तोड़कर अपने अंदर की खुशियों को तलाशना चाहती हैं।

15 मई, 2019

About Author

Awnish