इस साल टेक्नोलॉजी बदल देगी आपकी जिंदगी, 5G से लेकर मार्केट में आएंगे फोल्ड होने वाले फोन

0
114
साभार-गूगल

नई दिल्ली। साल 2019 शुरू हो चुका है और नया साल सूचना और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में बड़े बदलाव लेकर आ रहा है। इस साल सूचना और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में सबसे बड़ा बदलाव 5G इंटरनेट के जरिए होने जा रही है। जून तक अमेरिका समेत दुनिया के कुछ अन्य देशों में 5G इंटरनेट सेवा शुरू होने का अनुमान है। चलिए डालते हैं इस साल तकनीक के क्षेत्र में होने वाले बदलावों पर एक नजर

5G की शुरुआत

2019 के मध्य में अमेरिका 5G इंटरनेट सेवा शुरू करने वाला दुनिया का पहला देश बनने जा रहा है। उम्मीद है कि इस साल जून में 5G इंटरनेट सेवा अमेरिका में शुरू हो जाएगी। इसके अललावा चीन, जापान और दक्षिण कोरिया में भी 2019 के अंत तक 5G इंटरनेट सर्विस शुरू होगी।

दुनिया भर के सभी देश 5G इंटरनेट पर तेजी से काम कर रहे हैं। हालांकि, भारत में 5G इंटरनेट सर्विस शुरू होने में 2-3 साल का वक्त लग सकता है। 5G इंटरनेट तकनीक और सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में बड़े बदलाव लेकर आएगा। 5G के आने से कॉल ड्राप, नेटवर्क गायब होने और वीडियो बफरिंग जैसी बातें किस्से-कहानियों में सिमटकर रह जाएंगी। मौजूदा 4G नेटवर्क से 100 गुना तेज 5G इंटरनेट के जरिए बड़ी-बड़ी फाइलें भी आसानी से ट्रांसफर की जा सकेंगी।

फोल्ड होने वाला स्मार्टफोन

जनवरी में शुरू होने वाले मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस में इस साल आपको कई हैरान करने वाले नए स्मार्टफोन देखने को मिल सकते हैं। माना जा रहा है कि सैमसंग मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस में अपना पहला फोल्डेबल स्मार्टफोन शोकेस कर सकता है। इस फोन की झलक सैमसंग पिछले ही साल दिखा चुका था। सैमसंग के इस स्मार्टफोन का इस्तेमाल जरूरत के वक्त टैबलेट और बड़ी स्क्रीन के तौर पर भी किया जा सकेगा। यह इतना लचीला है कि फोल्ड कर इसे जेब में रखा जा सकता है।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस

पिछले कुछ सालों से दुनिया की सबसे बड़ी टेक कंपनियां आटिफिशियल इंटेलिजेंस पर पानी की तरह पैसा बहा रही हैं। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस आपके स्मार्टफोन से लेकर एक प्लेन तक हर जगह इस्तेमाल हो रहा है। इस साल यह तकनीक नया रूप लेगी।

अभी तक माना जाता रहा है कि मशीनी इंटेलिजेंस के इस्तेमाल से रोजगार कम हो रहे हैं। लेकिन, हाल ही में आई एक रिपोर्ट पर गौर करें तो 2020 तक मशीनी इंटेलिजेंस के कारा 2.3 करोड़ से ज्यादा लोगों को रोजगार मिलेगा।

भारत में इंटरनेट क्रांति की तैयारी

दिसंबर 2018 में इसरो ने जीसैट-77 सैटेलाइट लांच कर भारत में इंटरनेट की स्पीड बढ़ाने की शुरूआत कर दी है। इसरो इस साल 4 नए सैटेलाइट लांच करेगा। यह प्रोजेक्ट अगर सफल हुआ तो भारत में इंटरनेट की रफ्तार कई दूसरे देशों से भी ज्यादा हो जाएगी।

4 नए सैटेलाइट्स सफलतापूर्वक अपनी कक्षा में स्थापित होने के बाद भारत में 100GB प्रति सेकेंड की रफ्तार से इंटरनेट सर्फ किया जा सकेगा। कुछ ऐसे ही प्रोजेक्टपर टेस्ला के मालिक एलन मस्क भी काम कर रहे हैं। एलन मस्क की कंपनी स्पेस एक्स ऐसे ही सैटेलाइट लांच कर, दुनिया के कई मुल्कों में इंटरनेट क्रांति लाने की तैयारी कर रहे हैं।

साइबर सुरक्षा पर रहेगा जोर

2018 में जहां फेसबुक समेत कई बड़ी कंपनियां अपने यूजर्स का डाटा लीक करने के कारण सुर्खियों में रहीं, वही अब नया साल साइबर सुरक्षा के नाम रहने की उम्मीद है। दरअसल, तकनीकी विशेषज्ञों का मानना है कि आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस का प्रभाव जैसे-जैसे बढ़ेगा, वैसे-वैसे साइबर सुरक्षा का खतरा भी बढ़ने लगेगा। इससे निपटने के लिए बड़ी कंपनियां मोटा पैसा खर्च कर अपनी वेबसाइटों व सर्वरों की सुरक्षा बढ़ाएगी।